खण्डवा। सोमवार को मप्र के खण्डवा जिले के धनगांव थाना क्षेत्र के कालमुखी के पास इंदिरा सागर बांध परियोजना से निकली गहरी नहर (कैनाल) में पुलिस की डायल 100 जा गिरी। इससे उसमें सवार चालक व पुलिसकर्मी की मौत हो गई।

 इनमे आरक्षक का नाम निहाल सिंह (30) था जो धनगांव थानें में आरक्षक के तौर पर पदस्थ है वही चालक विशाल उर्फ सोनू (32) निवासी खण्डवा है। मिली जानकारी के अनुसार अभी कुछ समय पहले ही निहाल सिंह की शादी हुई थी।

डायल 100 की टीम को नजदीक के गांव पिपराड में विवाद की खबर मिली थी। किन्ही कारणों से पिपराड गांव में ही डायल 100 का एक व्यक्ति उतर गया। इसके बाद डायल 100 में सवार उक्त दोनों नहर के पास की रोड से धनगांव थाने की ओर लौट रहे थे, तभी डायल 100 का टायर फटने के कारण बैलेंस बिगड़ा और डायल 100 नहर में जा गिरी।

खंडवा पुलिस विभाग की गीता नें भी दम तोड़ा

खंडवा पुलिस के लिए आज बेहद दर्दनाक दिन,पुलिसकर्मी सहित गीता की मौत नें सबको रूलाया

पुलिस परिवार की दबंग सदस्य थी गीता,अच्छे-अच्छे बदमाशों को गीता को देखकर आ जाता था पसीना

डाग रूपी शेरनी थी गीता, मौत पर पुलिस परिवार नें दी शोकसलामी

खंडवा पुलिस के लिए 24 जून का दिन बेहद दर्दनाक रहा ।जहां एक और धनगांव थाने में पदस्थ डायल हंड्रेड के दो सदस्यों की  दर्दनाक मौत हो गई वहीं पुलिस परिवार खंडवा की दबंग सदस्य गीता की मौत ने पुलिसकर्मियों को रुला दिया। गीता को देखकर अच्छे-अच्छे बदमाशों एवं आतंकवादियों के पसीने छूट जाया करते थे। गीता ने खंडवा पुलिस के साथ मिलकर बहुत से ऑपरेशन को अंजाम दिया और बड़े-बड़े सनसनीखेज अपराधों को सुलझाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की । पुलिस की टीम के साथ जब गीता सर्चिंग पर निकलती थी तो उसको देखने के लिए भीड़ जमा हो जाया करती थी। अपनी दबंगई के चलते गीता सभी का ध्यान अपनी और आकर्षित कराया करती थी।  खंडवा पुलिस के प्रत्येक थाने में गीता को लेकर एक खासा लगाव था और सभी गीता की इज्जत किया करते थे। जब गीता किसी ऑपरेशन को लेकर थाने में जाया करती थी तो प्रत्येक व्यक्ति गीता से अपने तरीके से बात करने की कोशिश किया करता था ।  खंडवा का ऐसा ही शायद कोई था ना हो जिस में घटित गंभीर अपराध में गीता ने मदद ना की हो । कई बार तो गीता अपराधी तक पुलिस की टीम को पहुंचा दिया करती थी जिसके बाद अपराधी जेल की सलाखों के पीछे होता था । खंडवा पुलिस परिवार की लाडली गीता की बीमारी के चलते दुखद मौत हो गई ।गीता की मौत के बाद खंडवा पुलिस द्वारा गीता को शोक सलामी देकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया । सभी पुलिसकर्मियों ने एक सुर में कहा कि गीता अमर रहे 

आइए आपको बताते हैं कौन थी गीता । चलिए आपको बताते हैं कि गीता कौन थी व गीता की मौत पर सभी इतने दुखी क्यों हैं 

दरअसल गीता खंडवा डॉग स्क्वायड टीम की हाईली ट्रेंड लीडर थी और गीता ने खंडवा में सनसनीखेज एवं गंभीर अपराध का खुलासा करने में कई बार महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। इसके अलावा गृह मंत्रालय द्वारा आए कई महत्वपूर्ण निर्देशों के तहत रेलवे स्टेशन,बस स्टैंड सहित अन्य स्थानों पर सर्चिंग करने में भी गीता ने कई महत्वपूर्ण ऑपरेशन को अंजाम दिया।

Share To:

Post A Comment: