1.52 लाख मीट्रिक टन हुई गेहूं की खरीदी, कलेक्टर ने की उपार्जन की समीक्षा

कटनी - जिले में रबी विपणन वर्ष 2019-20 में गेहूं उपार्जन के तहत 22794 किसानों से 1 लाख 52 हजार मेट्रिक टन गेहूं की खरीदी की गई है। कलेक्टर शशिभूषण सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को सम्पन्न उपार्जन संबंधी समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी गई। इस मौके पर सहायक पंजीयक अरुण मेश्राम, उप संचालक कृषि ए0के0 राठौर, आपूर्ति अधिकारी रविकांत ठाकुर, नागरिक आपूर्ति निगम, सहकारी बैंक के अधिकारी भी उपस्थित थे।उपार्जन की समीक्षा बैठक में प्रभारी जिला आपूर्ति अधिकारी रविकांत ठाकुर ने बताया कि जिले के उपार्जन केन्द्रों पर 1 लाख 52 हजार 200 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी की गई है। जिसमें 1 लाख 41 हजार 900 मीट्रिक टन गेहूं का परिवहन कर भण्डारण भी करा दिया गया है। कुल स्वीकृत मात्रा 1 लाख 35 हजार 500 मीट्रिक टन का भण्डारण वेयरहाउस में हो गया है। खरीदी गेहूं की मात्रा अनुसार 280 करोड़ 65 लाख 8 हजार रुपये की राशि में 279 करोड़ 76 लाख 70 हजार रुपये की राशि डिजिटल हस्ताक्षर से भुगतान की गई है। जिसमें 21 हजार 58 किसानों को 248 करोड़ 28 लाख 80 हजार की राशि सफल भुगतान के रुप में उनके खाते में पहुंच गई है। सहायक पंजीयक अरुण मेश्राम ने बताया कि इस बार गेहूं उपार्जन की राशि समितियों के खाते में नहीं जमा कर सीधे किसानों के खाते में रिलीज की गई है।कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने कहा कि आगामी खरीफ सीजन के लिये फसलों के उपार्जन हेतु बारदाने, स्टोरेज और परिवहन की तैयारियां अभी से शुरु कर दें। उन्होने नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारियों को मझगवां ओपन कैप में भण्डारित धान के स्कन्ध को शीघ्र मिलिंग की कार्यवाही हेतु उठाव कराने के निर्देश दिये। जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि अब किसी भी गेहूं खरीदी केन्द्र में गेहूं का स्टॉक परिहवन के लिये शेष नहीं है। 3 उपार्जन केन्द्रों के 42 किसानों की एनओसी नहीं मिलने से उनका भुगतान लंबित है। कलेक्टर ने लंबित भुगतान शीघ्र कराने के निर्देश दिये हैं।
Share To:

Post A Comment: