आज 8 जून मप्र अभियोजन का स्थापना दिवस है। विभाग की स्थापना 8 जून 1987 को हुई जिसमें कुल श्रमशक्ति लगभग 250 थी। अब हमारी ताकत 2300 को पार कर गई है और भविष्य में यह निश्चित रूप से आसानी से 3000 को पार कर जाएगी। मैं स्थापना दिवस पर मप्र अभियोजन पक्ष के सभी सदस्यों को बधाई देता हूं।

अब मप्र अभियोजन भारत में नंबर एक है जो कुछ साल पहले अकल्पनीय था। 2018 में एमपी के अभियोजन पक्ष ने बाल बलात्कार के मामलों में 21 मृत्युदंड दिए जो भारत में एक रिकॉर्ड है। 2018 में Mp अभियोजन ने बाल बलात्कार के मामलों में 168 से अधिक आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। 2018 में आईपीसी से जुड़े मामलों में सजा की दर (मजिस्ट्रेट कोर्ट) 53% से बढ़कर 61% हो गई है जो भारत में सबसे ज्यादा है।

MP अभियोजन पक्ष ने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाए और कई प्लेटफार्मों पर मान्यता प्राप्त की।

1- भारत में सबसे तेज़ मुकदमे के परिणामस्वरूप मृत्युदंड --- 5 दिन का कटनी मामला

2- भारत में सबसे तेज़ सुनवाई के परिणामस्वरूप आजीवन कारावास हुआ ----- 3 दिन दतिया केस

3-किसी भी प्रकार की अदालत में सबसे तेज़ सुनवाई जिसके परिणामस्वरूप कारावास - 6 घंटे किशोर न्यायालय उज्जैन मामले में

बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड लंदन से 4-दो रिकॉर्ड

5- गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड यूएसए से दो रिकॉर्ड

6- गवर्नेंस अवार्ड DELHI में कलाम इनोवेशन

7- लोकमत पुरस्कार JAIPUR

8- संतोषी फाउंडेशन पुरस्कार JAIPUR

9- 15 अगस्त 2018 को भारत के माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले से अपने भाषण में सांसद अभियोजन की सफलता की कहानी को उद्धृत और सराहा।

10- भारत के माननीय पीएम श्री नरेन्द्र मोदी ने कार्यक्रम MAN KI BAAT में MP के अभियोजन की सराहना की है

11-भारत के माननीय पीएम श्री नरेंद्र मोदी ने गांधीनगर में फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में सांसद अभियोजन की सराहना की।

12- भारत के माननीय पीएम श्री नरेन्द्र मोदी ने DG और IG सम्मेलन 2019 में सांसद अभियोजन की सराहना की है

13- भारत में दो रिकॉर्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स

पिछले दो वर्षों में एमपी प्रॉसिक्यूशन और उसके सदस्यों ने नई चीजों का पालन किया है

1- नया ऐप अभियोजकों के प्रदर्शन मूल्यांकन और निगरानी प्रणाली कहा जाता है। यह एक अनोखा ऐप है और इस ऐप के लिए दो रिकॉर्ड बने। ऐप ने विभाग में क्रांति ला दी है। लागू करने के लिए सभी राज्यों को ऐप की कॉपी दी गई है। ऐप गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है।

2- पुस्तक - अभियोजन मामले का अध्ययन 200 पृष्ठ

3- पुस्तक - नए अभियोजकों के लिए अध्ययन सामग्री 250 पृष्ठ

४-पुस्तक - अभ्यजन सागर ४०० पृष्ठ

अद्भुत सफलता का श्रेय मप्र अभियोजन पक्ष के सभी सदस्यों को जाता है।

राजेंद्र कुमार IPS,

महानिदेशक अभियोजन एमपी भोपाल

(मोब- 9425027735)
Share To:

Post A Comment: