बिहार में चमकी बुखार से अब तक 93 बच्चों की मौत

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में संदिग्ध रूप से दिमागी बुखार के कारण इस महीने जान गंवाने वाले बच्चों की संख्या 93 हो गई है। राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पीड़ितों के पास नहीं पहुंचने पर सवाल उठ रहे हैं। हालांकि सीएम नीतीश ने स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन और चिकित्सकों को हरसंभव कदम उठाने का निर्देश दिए हैं।

सीएम नीतीश कुमार ने प्रत्येक मृतक के परिजन को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। सरकार की तरफ से संचालित श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल और एक ट्रस्ट द्वारा संचालित केजरीवाल अस्पताल में 90 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है। बयान के मुताबिक, संदेह है कि ये बच्चे एईएस से पीड़ित थे।

एसकेएमसीएच में 69 बच्चों की जान गई जबकि 14 बच्चों की मौत केजरीवाल अस्पताल में हुई। बहरहाल, अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर बच्चे हाइपोग्लाइसेमिया से पीड़ित थे। हाइपोग्लाइसेमिया में रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम हो जाता है और साथ इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन भी होता है।

जान गंवाने वाले ज्यादातर बच्चों की उम्र दस साल से कम थी। एक जून के बाद से एसकेएमसीएच अस्पताल में 197 बच्चों को भर्ती किया गया और केजरीवाल अस्पताल में 91 बच्चों को ले जाया गया। इन बच्चों को एईएस होने का संदेह था लेकिन ज्यादातर को हाइपोग्लाइसेमिया से पीड़ित पाया गया है।
Share To:

Post A Comment: