एआईएडीएमके ने कहा- तमिलनाडु में हिंदी भाषा के लिए कोई जगह नहीं

तमिलनाडु की सत्ता पर काबिज एआईएडीएमके की ओर से गुरुवार को जारी बयान में कहा गया कि राज्य में हिंदी की कोई जगह नहीं है। यहां की शिक्षा में 2 लैंगवेज फॉर्मूला है- तमिल और अंग्रेजी।

राज्य के मंत्री और एआईएडीएमके के नेता डी जयकुमार ने कहा कि- एआईएडीएम के यहां के स्कूलों में 2 लैंगवेज फॉर्मूला के प्रति समर्पित है। मातृभाषा तमिल और दूसरा अंग्रेजी। ये फॉर्मूला पूर्व मुख्यमंत्री सीएन अन्नादुरई ने लाया था। यहां हिंदी के लिए कोई जगह नहीं है। न ही सरकार और न ही पार्टी अन्ना की बात से एक इंच भी पीछे हटने वाली। यहां कोई बदलाव नहीं होने देंगे।

जयकुमार का बयान मुख्यमंत्री एडप्पडी के पलानीस्वामी द्वारा न्यू एजुकेशन पॉलिसी ड्राफ्ट में प्रस्तावित केंद्र के तीन-भाषा फॉर्मूले के लिए माफी मांगने के एक दिन बाद आया है। इस ड्राफ्ट में देश के हर स्कूल में हिंदी भाषा को अनिवार्य करने की बात कही गई थी। केंद्र ने सोमवार को मसौदे में प्रस्ताव से इससे संबंधित खंड को हटा दिया, क्योंकि दक्षिणी राज्यों ने इस विचार का विरोध करते हुए कहा था कि यह हिंदी को थोपने की कोशिश है।
Share To:

Post A Comment: