टीएफसी से अनुमोदन कराकर शीघ्र भेजें बैंकों को प्रकरण - कलेक्टर सिह

बैंकर्स की जिलास्तरीय समीक्षा एवं परामर्शदात्री समिति की बैठक

Kkkन्यूज कटनी- कलेक्टर शशिभूषण सिह ने विभिन्न विभागों को स्वरोजगार योजनाओं में निर्धारित लक्ष्यों के अनुरुप प्रकरणों का टीएफसी (टास्क फोर्स कमेटी) अनुमोदन कराकर बैंकों को शीघ्र प्रेषित करने के निर्देश दिये हैं। उन्होने कहा है कि स्वरोजगार योजनाओं में लक्ष्यपूर्ति के लिये वित्तीयवर्ष की समाप्ति का इन्तजार नहीं करें। बैंकों की जिलास्तरीय परामर्शदात्री और पुनरीक्षण समिति की बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में बैंक सहायित शासकीय योजनाओं और कार्यक्रमों की समीक्षा की गई। इस अवसर पर आरबीआई प्रतिनिधि भोपाल माला शर्मा, जिला प्रबंधक नाबार्ड संदीप, एलडीएम अमीनाथ महाली, आरबीओ स्टेट बैंक चन्द्र शेखर, महाप्रबंधक उद्योग एस0एन0 पाठक, परियोजना अधिकारी शहरी विकास अभिकरण अभय मिश्रा, उप संचालक कृषि ए0के0 राठौर, उप संचालक पशु चिकित्सा सेवायें आर0पी0एस0 गहरवार, जिला संयोजक सरिता नायक, मत्स्य अधिकारी अजय केलकर, परियोजना अधिकारी जिला पंचायत ज्ञानेन्द्र सिंह भी उपस्थित थे।जिलास्तरीय परामर्शदात्री समिति की बैठक में एलडीएम ने बताया कि सभी विभागों की बैंक सहायित शासकीय योजनाओं के बैंकवार लक्ष्य निर्धारित कर प्रेषित कर दिये गये हैं। नगरीय निकाय, आदिम जाति, पिछड़ा वर्ग कल्याण द्वारा संचालित मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, आर्थिक कल्याण योजनाओं के आवेदन ऑनलाईन इस वर्ष से लिये जा रहे हैं। खादी ग्रामोद्योग, हाथकरघा, आरएनएलएम की योजनाओं की टीएफसी नहीं होने के फलस्वरुप प्रकरण नहीं भेजे जा सके हैं। कलेक्टर ने कहा कि सभी संबंधित विभाग और शाखायें अपने द्वारा संचालित स्वरोजगार की योजनाओं में शीघ्र टीएफसी की बैठक् कराकर पर्याप्त संख्या में प्रकरण बैंकों को प्रेषित करें। सभी संबंधित बैंक उनके यहां प्रेषित प्रकरणों में शीघ्र स्वीकृति की कार्यवाही करें तथा अनुदान राशि का क्लेम कर शीघ्र ही हितग्राही को वितरण की कार्यवाही भी सुनिश्चित करें।

 बैठक् में एलडीएम ने बताया कि प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्रों में बैंकों की जमा राशि मार्च 2019 में 4596 करोड़ से बढ़कर मार्च 2019 तक 5308 करोड़ हो गई है। इसी प्रकार अग्रिम में मार्च 2018 में 2445 करोड़ की तुलना में 285 करोड़ की वृद्धि कर मार्च 2019 में 2731 करोड़ हो गया है। ऋण जमा अनुपात मार्च 2018 में 53 प्रतिशत रहा, जो मार्च 2019 में 51.46 प्रतिशत हो गया है। रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया की प्रतिनिधि माला शर्मा ने कहा कि बैंको को ऋण जमा अनुपान (सीडी रेशियो) 60 प्रतिशत न्यूनतम रखना आवश्यक है। कम प्रतिशत वाले बैंक अग्रिम बढ़ाकर सुधार लायें।बैठक में बैंकों की कटनी जिले के लिये तैयार वार्षिक साख योजना वर्ष 2019-20 का अनुमोदन भी किया गया। इस मौके पर बताया गया कि वित्तीय समावेशन के तहत 177 शाखाओं पर कियोस्क की सुविधा दी जा रही है। वहीं जिले के सभी माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में वित्तीय साक्षरता शिविर भी लगाये जा रहे हैं। प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत खोले गये 4 लाख 9 हजार खातों में 3 लाख 39 हजार खातों में आधार सीडिंग कर ली गई है। प्रधानमंत्री जनधन खातों में 26 हजार 587 लोगों को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना तथा 1 लाख 39 हजार 336 लोगों को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत बीमा कवर दिया गया है। सीएम हेल्पलाईन में बैंकों से संबंधित प्रकरणों की समीक्षा करते हुये श्री सिंह ने कहा कि हेल्पलाईन के प्राप्त प्रकरणों का त्वरित निराकरण करें और एल-1 स्तर पर ही कार्यवाही प्रारंभ कर आवेदक से बातचीत कर संतुष्टिपूर्ण ढंग से गंभीरतापूर्वक प्रकरणों का निराकरण करें।

Share To:

Post A Comment: