KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
         प्रयागराज
  विकास कुमार पटेल

प्रयागराज मेला प्राधिकरण की पांचवी बोर्ड बैठक में लिये गये महत्वपूर्ण निर्णय
वर्ष के सभी स्नान पर्वों, त्योहारों और सामान्य दिनों में भी मेले की तर्ज पर सुविधायें निरंतर बनाये रखने के निर्देश
अमावस्या, पूर्णिमा और सभी स्नान पर्व हमारे लिये लघु मेले की तरह-मण्डलायुक्त, डाॅ0 आशीष कुमार गोयल
जल पुलिस, सुरक्षा, चकर्ड प्लेट, शौचालय, पेयजल, मार्ग प्रकाश और अन्य विभागों को मेला क्षेत्र में जनसुविधायें निरंतर बनाये रखने के लिए कमिश्नर ने दिये कड़े निर्देश
मेला क्षेत्र को हर-हाल में मलबा मुक्त रखा जाये-कमिश्नर
13 जून 2019 प्रयागराज।
प्रयागराज मेला प्राधिकरण की पांचवी बोर्ड बैठक में मण्डलायुक्त ने बोर्ड के सदस्यों को सम्बोधित करते हुए यह स्पष्ट किया कि मेला क्षेत्र एवं संगम तट को वर्ष पर्यन्त सुविधायुक्त, सुरक्षित एवं आकर्षक बनाये रखना है। उन्होंने सभी कार्यदायी विभागों को सख्त हिदायत दी है कि कुम्भ के बाद भी मेला क्षेत्र को यथावत आकर्षक एवं सुविधासम्पन्न बनाये रखा जाये, जिससे देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को प्रयागराज की गरिमा का सार्थक अनुभव हो सके। बोर्ड बैठक में मण्डलायुक्त ने कहा कि कुम्भ 2019 के उपरांत प्रयागराज की गरिमा विश्व पटल  पर अप्रत्याशित रूप से बढ़ी है तथा सामान्य दिनों में भी यहाँ देश-विदेश के श्रद्धालु भारी संख्या में आने लगे हैं। इसलिए मेला क्षेत्र को हर पर्व पर जनसुविधाओं एवं सुरक्षा व्यवस्था से परिपूर्ण रखा जाना अत्यंत आवश्यक है। इसके लिए उन्होंने पीडब्लूडी, बिजली विभाग, स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम एवं मेला प्राधिकरण को मेला क्षेत्र में चकर्ड प्लेटे, विद्युत व्यवस्था, सुरक्षा, शौचालय, सफाई एवं पेयजल की निरंतर व्यवस्था बनाये रखने का निर्देश दिया। बोर्ड बैठक में मण्डलायुक्त ने मेला प्राधिकरण को मेला क्षेत्र में पार्किंग एवं स्वच्छता पर अपना नियंत्रण कड़ा करने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र में पार्किंग का उत्तम प्रबन्ध किया जाय, जिससे कि बाहर से आने वाले यात्रियों को असुविधा न हो, साथ ही पूरे मेला क्षेत्र को मलबे से मुक्त रखा जाय। इसके लिए मेला प्राधिकरण को सुरक्षा कर्मिंयों का एक दल गठित करने हेतु भी सुझाव दिया।
बैठक में वित्तीय वर्ष 2018-19 के आय एवं व्यय के सम्बन्ध में चर्चा हुयी। वित्तीय वर्ष 2019-20 में प्रयागराज मेला प्राधिकरण के विभिन्न कार्यों हेतु जारी प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति के सम्बन्ध में चर्चा की गयी। मेला समाप्ति के पश्चात श्रद्धालुओं एवं स्नानार्थिंयों की सुविधा के दृष्टिगत स्नान घाटो तथा संगम नोज तक कतिपय अवस्थानाएं यथा-चेकर्डप्लेट मार्ग, पाण्टून पुल, प्रकाश एवं सेनीटेशन आदि को वर्षपर्यन्त निरन्तर बनाये रखने एवं अन्य कार्य यथा-फोटोग्राफी वीडियोग्राफी, आउटसोर्सिंग स्टाफ तथा यंग प्रोफेशनल आदि हेतु आगठित धनराशि का बजट प्राविधानित करने का प्रस्ताव किया गया, जिस पर स्वीकृति दी गयी। 
बैठक में ‘‘स्वच्छ कुम्भ कोष’’ की प्रगति पर चर्चा की गयी, जिसमें अवगत कराया गया कि मा0 प्रधानमंत्री जी के द्वारा सफाई कर्मचारियों नाविकों के कल्याण के दृष्टिगत स्वच्छ कुम्भ कोष को गठित करने की घोषणा के क्रम में स्वच्छ कुम्भ कोष का सोसायटी एक्ट के तहत पंजीयन हो गया है। इस कोष में जिन योजनाओं को सम्मिलित किया गया है, उनमें प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, आयुष्मान भारत योजना, सफाई कर्मिंयों नाविकों की बालिकाओं को शिक्षा प्रोत्साहन योजना, श्रम योगी मानधन योजना शामिल है। 
संगम क्षेत्र में सामान्य दिनों में श्रद्धालुओं स्नानार्थिंयों की जल में सुरक्षा की दृष्टिगत गोताखोरों की तैनाती के सम्बन्ध में चर्चा की गयी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, कुम्भ मेला के पत्र के द्वारा श्रद्धालुओं स्नानार्थिंयों की सुरक्षा व्यवस्था हेतु जल पुलिस किला घाट  संगम में 07 गोताखोरों को पूर्णकालिक अवधि के लिए संविदा दैनिक मजदूरी पर तैनात किये जाने की व्यवस्था पर विचार-विमर्श किया गया। कुम्भ मेला 2019 में चयनित 08 कुम्भ यंग प्रोफेशनल में से 04 कुम्भ यंग प्रोफेशनल को अगले वित्तीय वर्ष 2019-20 में आबद्ध करने की कार्योंत्तर स्वीकृति के सम्बन्ध में बैठक में चर्चा की गयी तथा स्वीकृति प्रदान की गयी। 


Share To:

Post A Comment: