स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक

Kkkन्यूज कटनी- कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में 10 जून से 20 जुलाई तक 5 वर्ष तक के बच्चों के लिये चलाये जा रहे दस्तक अभियान का क्रियान्वयन पूरी गंभीरता के साथ दक्षतापूर्वक करने के निर्देश दिये हैं। स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग की संयुक्त समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने यह निर्देश दिये हैं। इस मौके पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ0 एस0के0 निगम, सिविल सर्जन डॉ0 एस0के0 शर्मा, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी वनश्री कुर्वेति, परियोजना अधिकारी इन्द्रभूषण तिवारी सहित बीएमओ एवं सीडीपीओ उपस्थित थे।कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि दस्तक अभियान का क्रियान्वयन निर्धारित माईक्रोप्लानिंग के साथ मैदानी स्तर पर स्वास्थ्य विभाग की एएनएम, आशा और महिला बाल विकास की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से संयुक्त प्रयासों से गंभीरता पूर्वक किया जाये। उन्होने कहा कि सम्पूर्ण टीकाकरण और बच्चों के टीकाकरण की स्थिति में भी जिले में सुधार लाने की आवश्यकता है। दस्तक अभियान के दौरान टीकाकरण एवं अन्य स्वास्थ्य सूचकांकों में सुधार लाने के प्रयास किये जायें। कलेक्टर ने दस्तक अभियान एवं स्वास्थ्य कार्यक्रमों तथा टीकाकरण में मैदानी स्तर पर सतत् मॉनीटरिंग और समय पर रिपोर्ट के डाटा फीड करने के निर्देश भी दिये। कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि दस्तक अभियान के पश्चात पुनः समीक्षा बैठक की जायेगी और अच्छा परफॉर्मेन्स नहीं होने पर संबंधित कर्मचारियों पर सख्त कार्यवाही भी की जायेगी।कलेक्टर श्री सिंह ने जिले के स्वास्थ्य सूचकांक और स्वास्थ्य कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान कहा कि कार्यक्रम की उपलब्धियों के आंकड़े सही और वास्तविक होने चाहिये। तभी कहीं कमी होने पर उसमें सुधार लाने की संभावना रहती है। कलेक्टर ने स्वास्थ्य संस्थाओं की अधोसंरचना, समाधान, जिले के मुख्य स्वास्थ्य सूचकांक, एन्टीनेटल केयर, संस्थागत प्रसव, पोषण पुर्नवास केन्द्र, लाईव और स्टिल बर्थ, बाल टीकाकरण, सम्पूर्ण टीकाकरण सहित राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम, कुष्ठ रोग नियंत्रण, मलेरिया नियंत्रण, दृष्टि विहीनता नियंत्रण एवं राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा की।महिला एवं बाल विकास विभाग की समीक्षा में जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी वनश्री कुर्वेति ने बताया कि जिले में कुल 1712 आंगनबाड़ी केन्द्र संचालित है। एनआरसी में स्वीकृत शत-प्रतिशत बेडों में कुपोषित बच्चों का उपचार हो रहा है। टीएचआर वितरण से 83.74 हितग्राही महिला एवं बच्चों को लाभान्वित किया जा रहा है। बैठक में प्रधानमंत्री मातृ वंदना तथा समेकित बाल संरक्षण योजना की भी समीक्षा की गई।

दस्तक अभियान में अब तक 25 हजार 886 बच्चों की स्क्रीनिंग कलेक्टर शशिभूषण सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न दस्तक अभियान की समीक्षा बैठक में बताया गया कि 10 जून से संचालित दस्तक अभियान में 17 जून तक जिले के 5 वर्ष तक के 25 हजार 886 बच्चों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। इनमें 935 बच्चों का रेफरल सेवाओं के याग्य माना गया है। 20 जुलाई तक चलने वाले दस्तक अभियान में कुल 1156 दस्तक भ्रमण दल बनाये गये हैं, जो माईक्रोप्लानिंग के आधार पर गांव-गांव में घर-घर जाकर शून्य से 5 वर्ष तक के बच्चों की स्क्रीनिंग कर रहे हैं।


Share To:

Post A Comment: