जनपद अमेठी के विकास खंड जामो का एक मामला प्रकाश में आया है बुजुर्ग माताफेर सुत माताबदल गांव पोस्ट जामो गांव के निवासी हैं थाना जामो पड़ता है जनपद अमेठी पड़ता है जिनको राधिका प्रसाद मिश्र लेखपाल ने मृतक दिखा दिया है जिसकी वजह से उसे ₹4000 उसके खाते में आने थे लेकिन इस धन से वह बेचारा वंचित हो गया है जब उससे पूछा गया कि आपको मृतक किस ने दिखाया तो उसने बताया राधिका लेखपाल ने जिनका घर बस्ती देई है का चक्कर रोज लगाता रहता है और उनसे वह मिलता रहता है  लेकिन काफी दिन बीतने के बाद भी वह आज थाना दिवस में आया हुआ था और इस पत्रकार से उसने अपनी पीड़ा बताई भैया मुझे मृतक दिखा दिया गया है अब मैं क्या करूं राधिका प्रसाद मिश्र के कारनामे जगजाहिर है मृतक मृतक दिखाने के कारण आदेश 1425 फसली आदेश राजस्व निरीक्षक आर सी प्रपत्र 9 खा ता फै 20/4/018 के आधार पर खाता संख्या 667 पर मृतक माताफेर के स्थान पर जगदेव सुत माताफेर व बुधराम व श्री राम व राजकुमार सुत अवतार ल श्रीमती धिरिजा पत्नी स्वर्गीय अवतार संतराम अमर चंद्र सुत राम अवध व श्रीमती रजपता पत्नी स्वर्गीय राम अवध व निवासी जामो का नाम वरासतन दर्ज हो 1/8 /18 आदेश भी हो गया है जिसके बाद में यानी उसको मरा दिखा करके उसकी जमीन भी इन लोगों के नाम दर्ज करने का आदेश भी हो गया है बड़ा अन्याय हो रहा है जीवित व्यक्ति को मरा दिखा करके अब सवाल उठता है कि ऐसे मामले पर भी इस लेखपाल के खिलाफ कार्रवाई होगी  क्षेत्र में इनके कार्य सही नहीं है इनके खिलाफ शिकायतें  हैं इस समय चल भी रही है की जीवित को मरा व्यक्ति दिखाने का मामला भी यह प्रकाश में आया है अब देखिए इस व्यक्ति को न्याय मिल पाता या फिर नहीं राधिका प्रसाद मिश्र के खिलाफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से मिलकर के शिकायत किए जाने की भी योजना इस विकासखंड में फल फूल रही है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को दिखाया जाएगा कि राधिका प्रसाद मिश्र किस प्रकार से आम जनता को परेशान करते हैं यह लंबे समय से इसी विकासखंड में और ग्राम सभा में जमे हुए हैं अधिकारियों से तमाम शिकायतों के बाद भी उनका स्थानांतरण नहीं किया जाता यह जोर जुगाड़ से अपना स्थानांतरण रुकवा लेते हैं और आम जनता का यही पर उत्पीड़न करते रहते हैं इस मामले में खास बात यह है जिस व्यक्ति को मृतक दिखाया गया उसके परिवार में जो जमीन की वरासत  हुई है उसमें से उनके परिवार का कोई नहीं है परिवार वालों को कहना कि यह जमीन ना मालूम किसके नाम वरासत कर दी गई है जो मेरे परिवार के नहीं है फिलहाल जिस व्यक्ति को मृतक दिखा गया है वह जीवित है यदि किसान सम्मान निधि योजना नहीं होती तो इस परिवार को पता ही नहीं चलता और यह जमीन धीरे से जिन लोगों के नाम  वरासत हुई है वह पूरी तरीके से हो ही जाती और अंत में मुकदमे बाजी का दौर चलता  

रिपोर्ट अशोक कुमार पाण्डेय पत्रकार कलयुग की कलम राष्ट्रीय मासिक पत्रिका दैनिक बेव न्यूज़ चैनल
विडियो देखे- 

Share To:

Post A Comment: