अंतर्राष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवसः बाल श्रम एक सामाजिक अपराध है, हर बच्चे को आगे बढ़ने का अधिकार है


हर एक बच्चा देश की नींव है। इसलिए हमें हर बच्चे को अच्छी शिक्षा देनी चाहिए ताकि उन्हें श्रम न करना पड़े।

यह उनके सीखने की उम्र है, कमाने की नहीं ...

एक शिक्षित बच्चा दुनिया को बदलने की ताकत रखता है।

आइए बाल श्रम को समाप्त करें और हर बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करें ...✍ 


हर साल 12 जून को बाल श्रम के खात्मे के लिए श्रमिक संगठन, स्वयंसेवी संगठन और सरकारें विश्व बालश्रम विरोधी दिवस मनाती हैं। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) की रिपोर्ट के अनुसार आज भी दुनियाभर में करीब 15.2 करोड़ बच्चे मजदूरी करने को मजबूर हैं। जबकि भारत में जनगणना 2011 की रिपोर्ट बताती है कि देश में एक करोड़ से ज्यादा बाल मजदूर हैं।
Share To:

Post A Comment: