उम्मेद कुशवाहा कलयुग की कलम रिपोर्टर रीठी 

जिम्मेदारो की अनदेखी उजागर, रहवासियो की शिकायत के बाद भी नही हुई कार्रवाई 

 विद्युत विभाग की वारिश पूर्व व्यवस्थाओ की खुली पोल 

रीठी ।।शासन के शक्त निर्देश है कि वारिस के पूर्व सभी प्रकार की तैयारिया कर ली जाए, लेकिन रीठी मे खुली पड़ी डीपी बाक्स को देखकर ऐसा नही लगता कि विद्युत मंडल वारिस के पूर्व नंगे तारो को व्यवस्थित कर रहा है, बल्कि पूरा विभाग मनमानी के साथ-साथ शासन के निर्देशो की भी धज्जीया उड़ा रहा है । 

          व्यवस्थाओ को ध्यान मे रखकर विद्युत विभाग द्वारा खंभो मे डीपी बाक्स तो लगवा दिये गये है, लेकिन उसके बाद डीपी बाक्स किस हालत मे है, इस ओर झांकना भी मुनासिब नही समझा गया । जबकि जगह-जगह खंभो मे लगे डीपी बाक्स खुले पड़े है , और दुर्घटनाओ की इशारा कर रहे है । कई बार वारिश होने की दशा मे करंट खंभो मे फैल जाता है और लोगो को किसी अनहोनी का डर बना रहता है । 

कानो मे जू तक नही रेग रही

दुर्घटनाओ को न्यौता दे रहे खुले डीपी बाक्सो को बंद कराने या व्यवस्थित कराने के लिए कवायद करना तो दूर की बात है, यहा जिम्मेदार अधिकारीयो द्वारा इस ओर झांकने की जहमत तक नही उठाई गई । रीठी नगर के रहवासी इन दिनो आशंकित रहते है जिनके द्वारा शिकायत किए जाने के बाद भी जिम्मेदार अमले के कानो मे जू तक नही रेग रही । बताया गया कि पोस्ट आफिस के पास जनपद मार्ग पर सड़क किनारे लगा डीपी बाक्स लोगो की मुसीबत का सबब बन रहा है । 

खतरो का रहता है अंदेशा 

सड़क किनारे लगी इस खुली डीपी के कारण जहा लोग दुर्घटना का शिकार हो रहे है, वही वारिश हो जाने पर यहा करंट फैलने का खतरा भी बना रहता है । समस्या जाहिर करते हुए छेत्रीय लोगो ने बताया कि खुला पड़ा डीपी बाक्स सड़क की ऊंचाई से मात्र तीन फिट मे लगा दिया गया है और उक्त डीपी बाक्स मे लगे बिजली के नंगे तार कभी भी बड़ी समस्या बन सकते है । इस संबंध मे छेत्र के रहवासियो ने कई बार संबंधित अधिकारीयो को अवगत कराया और खुले पड़े डीपी बाक्स को सुरक्षित करने की मांग की। लेकिन विद्युत मंडल के अधिकारीयो द्वारा इस  मामले को गंभीरता से नही लिया गया । 

मवेशियो को भी खतरा

रीठी मे सैकड़ो की संख्या मे घूमते आवारा मवेशी लगे डीपी बाक्स के पास कचरे के ढेर को खाने के लिए पहुंचते है, वही वही खुली पड़ी डीपी बाक्स की चपेट मे आने से मवेशियो के साथ कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है । इतना ही नही बताया गया कि  इस डीपी बाक्स मे कटआऊट की जगह खुले तार का उपयोग किया गया है । उक्त तारो की चपेट मे आने से गंभीर दुर्घटनाओ की आशंका बनी रहती है ।

यही से निकलती है नन्ही जाने

नन्ही जान कहे जाने वाले नौनिहाल इसी मार्ग से खुली पड़ी डीपी बाक्स के बाजू से होकर स्कूलो के लिए  गुजरते है, जिन पर कभी भी बड़े हादसे का संकट मंडराता रहता है । अभिभावको ने बताया कि  उनको अपने बच्चो को स्कूल भेजने मे रास्ते पर पड़ने वाली खुली डीपी बाक्स से खतरे का अंदेशा बना रहता है । बताया गया कि  इसी मार्ग पर महावीर चिल्ड्रन पब्लिक स्कूल, कन्या हाई स्कूल व आंगनबाड़ी केन्द्र है , जहा हजारो की संख्या मे नौनिहाल पढ़ने जाते है, लेकिन उन पर खुली पड़ी इस डीपी बाक्स के नंगे तार कही मुताबिक न बन जाए, इस बात की लोगो चिंता सताती रहती है। 

सुरक्षित कराने की मांग 

जिम्मेदार  अमले की अनदेखी के कारण लोगो की समस्या  अब तक हल नही हो पाई है। बताया गया कि जहा पर खुली डीपी बाक्स पड़ा है, उक्त मार्ग तहसील कार्यालय , जनपद पंचायत , महिला बाल विकास विभाग, वन विभाग ,  अस्पताल, छात्रावास , क्रषी विभाग , सिचाई विभाग , जनपद शिक्षा केंद्र ,  ममर्यादित बैंक , सोसायटी सहित तहसील मुख्यालय के प्रमुख कार्यालयो के लिए गुजरता है । वाहनो एवं स्कूली बच्चो व राहगीरो की आवाजाही होती है तो वही इस व्यस्ततम मार्ग पर खुली डीपी बाक्स  अनहोनी की  ओर इशारा करते प्रतीत हो रही है । छेत्र के , सहित अन्य जनो ने खुली पड़ी उक्त डीपी बाक्स मे ढक्कन लगवाने वा सुरक्षित कराने की मांग की है । 

तो किसी बड़ी अनहोनी का इंतजार है विभाग को 

अब सवाल यह खड़े होने लगे है कि हमेशा से ही अपनी मनमानी व लापरवाही के वायरस से प्रताड़ित रीठी के विद्युत मंडल कार्यालय मे पदस्थ अधिकारीयो व कर्मचारीयो को क्या अब किसी बड़ी अनहोनी का इंतजार है क्या। तभी तो विभाग द्वारा इस खुली मौत को सुरक्षित नही कराया जा रहा है। लोगो ने विद्युत विभाग के जिले मे बैठे अधिकारीयो से इसकी जांच कर दोषी कर्मचारीयो पर कार्रवाई कर डीपी बाक्स को सुरक्षित कराने की मांग की है । 


Share To:

Post A Comment: