Spread the love
(खोजेमा प्रेस वाला द्वारा)
उज्जैन/ बुरहानपुर स्थित बोहरा समाज की दरगाह पर इबादत के लिए निकला उज्जैन का बोहरा परिवार आज शाम को सनावद से 16 किमी दूर दौड़वां और सगडिय़ाव फंटे के बीच इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर बस और कार में आमने-सामने की भिड़ंत हो जाने से हादसे का शिकार हो गया इस भीषण हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की मौत हो गई। वहीं एक महिला सहित एक अन्य पुरुष की हालत गंभीर है। चारों मृतक बोहरा समाज के हैं और उज्जैन के गोंसा दरवाजा निवासी हैंं। दोनों घायलों को सनावद से इंदौर रैफर किया गया है। इस घटना की जानकारी लगते ही बोहरा समाज के लोग दुखी मन से मृतक परिवार के घर पर जमा होने लगे हैं पूरे समाज में इस घटना को लेकर मातम छाया हुआ है साथ ही आज से 6 वर्ष पूर्व जूना सोमवारिया क्षेत्र में स्थित 52 फ्लैट निवासी चार युगों की भी मृत्यु होने पर एक साथ जनाजे निकले थे कल भी बोहरा समाज में एक बार फिर चार जनाजे एक साथ निकलेंगे।

यात्री बस की टक्कर से कार हुई चकनाचूर

गोंसा दरवाजा उज्जैन निवासी अकबर अली का परिवार बुरहानपुर की हकीमी दरगार पर इबादत के लिए जा रहे थे। इस दौरान शाम पौने छह बजे सगडिय़ाव फंटे के पास सामने से आ रही निजी यात्री बस से कार की भिड़ंत हो गई। टक्कर इतनी जोरदार थी कि कार के परखच्चे उड़ गए। जैसे-तैसे मृतकों और घायलों को बाहर निकला गया। हादसे में अकबर अली पिता कादर (72), बेटा अमीरूद्दीन (45), पौते मुस्तफा (14) और गंभीर घायल सलमा पति अकबर (६०) की मौत हो गई। वहीं जेनब पति आमीन (32) और ताहिर पिता अमीर (17) गंभीर रूप से घायल हुए हैं। जिनको इलाज हेतु सनावद अस्पताल लाया गया जहां से हालत बिगड़ने पर इंदौर रेफर किया है।

बोहरा समाज में छाया मातम

हादसे की सूचना मिलने के बाद बड़ी संख्या में बोहरा समाजजनों की भीड़ गोंसा दरवाजा स्थित निवास पर जमा हो गई। पिता, पुत्र, पौते और सलमा बाई की मौत की खबर सुनकर हर कोई स्तब्ध था। देर रात को उज्जैन पहुंचे अन्य रितेश्दार भी सदमे में नजर आए। अब बुधवार को तीनों का पोस्टमार्टम होगा

कार के पुर्जे पूरे रोड पर बिखर गए थे

हादसे के बाद हाइवे पर जाम की स्थिति बन गई। करीब आधे घंटे तक कार घटनास्थल पर खड़ी रही। इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई। बाद में पुलिस ने कार को वहां से हटवाया, जिसके बाद यातायात सुचारू रूप से चालू हुआ।

अगरबत्ती बनाकर परिवार का संचालन
करता था मृतक परिवार
परिवार गोंसा दरवाजे में रहता था और अगरबत्ती बनाने का कार्य करके अपने परिवार को पालता था। हादसे में बोहरा परिवार के दादा, पिता, माता और पोता की मौत हो जाने से हर कोई स्तब्ध है

उज्जैन में दूसरी बार निकलेंगे चार जनाजे एक साथ

6 वर्ष पूर्व भी बोहरा समाज मैं इसी तरह का मातम छाया था जूना सोमवार या स्थित 52 फ्लैट के रहवासी चार युवकों की मृत्यु हुई थी तब भी चार जनाजे एक साथ निकले थे और इस घटना में भी चार लोगों की मृत्यु हुई है कल दोपहर में चार जनाजे एक बार फिर एक साथ निकलेंगे इस हादसे के बाद समूचे बोरा समाज में मातम छाया हुआ है ।

विडियो देखें- 


Share To:

Post A Comment: