महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना एवं उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के संयुक्त तत्वाधान में जिला स्तरीय अधिकारियों व ग्राम प्रधानों एवं एनआरएलएम स्टाफ की कन्वर्जन संबंधी एक दिवसीय कार्यशाला का किया गया आयोजन

चित्रकूट-मुख्य विकास अधिकारी डा0 महेन्द्र कुमार की अध्यक्षता में मंदाकिनी पैलेस में महांत्मा गांधी राट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना एवं उ0प्र0 राज्य ग्रामीण आजीविका मिन के संयुक्त तत्वाधान में जिला स्तरीय अधिकारियों, ग्राम प्रधानों, ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों, तकनीकी सहायकों, ग्राम रोजगार सेवकों एवं एनआरएलएम स्टाफ की कनवर्जन संबंधी एक दिवसीय कार्याला का आयोजन किया गया।मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि हम लोगो ने संकल्प लिया है कि वित्तीय र्वा 2019-20 में होने वाले कार्यो को गुणवत्तापूर्ण और समयवद्व तरीके से किया जायेगा। उन्होंने कहा कि जो कार्य कराये जाने है यदि उस कार्य की पर्याप्त जानकारी नही होगी तो उस कार्य को सही से नही किया जा सकता इसलिए जो भी कार्य ारु करें उस कार्य की पूर्ण जानकारी पहले ही ले लें। मनरेगा के माध्यम से कई ऐसे गुणवत्तापूर्ण तरीके से कार्य किये जा सकते हैं और राज्य व अपने जनपद मे बेहतर तरीके से विकास किया जा सकता है। आज इस कार्याला के माध्यम से सभी योजनाओं की जानकारी दी गयी। उन्होंने कहा कि जहां-जहां वृक्षारोपण कार्य होना है वहां 20 जून 2019 तक गढ्ढे के खोदाई का कार्य पूर्ण हो जाना चाहिये और जिन तालाबों में खोदाई का हुआ है या हो रहा है उन तालाबां के चारो तरफ वृक्षा रोपण का कार्य किया जाना है जो पंचवटी वृक्ष तालाबों के किनारे लगाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि जितने भी हैण्डपंप है उनके पास सोखकिट होना आवयक है उससे जल स्तर बढता है और प्रदूण भी नही फैलता है। अन्ना पाओं की समस्या पर कहा कि मॉडल स्टीमेट तैयार किये गये है जिसमें काफी हद तक अन्ना प्रथा से निदान पा सकेगें। आजीविका कनवर्जन के माध्यम से रोजगार भी दिया जा रहा है। उन्होनें संबंधित विकास खण्ड अधिकारी व सचिव को निर्दे दिये कि जो कार्य पूर्ण हो गये है वहां पर बोर्ड लगाया जाये और उस बोर्ड में पूरी रिपोर्ट चस्पा होनी चाहिये जिसमें रंगाई-पोताई कर अच्छे से लिखावट होनी चाहिये। उन्होंने जवाहर रोजगार योजना, सम्पूर्ण ग्रामीण रोजगार योजना, सुनिचित रोजगार योजना, राट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना, मनरेगा योजनान्तर्गत कराये जाने हेतु अनुमन्य कार्य जैसे जल संरक्षण एवं जल संचय, सूखे से बचाव के लिए वृक्षा रोपण और वन संरक्षण, चारगाह व खेल मैदान,मत्स्य पालन और कार्यक्रम का संचालन के लिये रोजगार की मांग का आकलन, पंजीकरण की प्रक्रिया, रोजगार पत्र (जॉब कार्ड), रोजगार हेतु आवेदन, रोजगार की उपलब्धता, आवयक अभिलेखों का रख रखाव आदि बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा की।अपने-अपने विभागो से संबंधित प्रभागीय वनाधिकारी, परियोजना निदेक, उपायुक्त स्वतः रोजगार, जिला पंचायत राज अधिकारी, श्रम विभाग, एनआरएलएम आदि संबंधित अधिकारियों ने कार्याला में प्रोजेक्टर के माध्यम से होने वाली योजनाओं के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। इसके पूर्व मुख्य विकास अधिकारी ने मां सरस्वती के चित्र पर दीप प्रज्ज्वलित व मार्ल्यापण कर कार्यक्रम का संचालन किया। कार्यक्रम का संचालन अतुल खरे ने किया।इस अवसर पर प्रभागीय वनाधिकारी, परियोजना निदेक, जिला विकास अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, उपायुक्त स्वतः रोजगार, एनआरएलएम, श्रम विभाग, जिला दिव्यांगजन अधिकारी सहित संबंधित जिला स्तरीय अधिकारी, विकास खण्ड अधिकारी, ग्राम प्रधानों, ग्राम पंचायत अधिकारियों, तकनीकी सहायकों, ग्राम रोजगार सेवकों एवं एनआरएलएम स्टाफ उपस्थित रहे। 
जिलारिपोटर-विवेक श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं वेब न्यूज चैनल


Share To:

Post A Comment: