योगगुरु बाबा रामदेव ने कहा है कि भगवान राम राष्‍ट्र के पूर्वज हैं, मात्र हिंदुओं और मुसलमानों के नहीं। उन्‍होंने कहा कि आस्‍था सबसे बड़ी चीज है और इस पर कुठाराघात नहीं करना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर विवाद के आपसी सहमति से हल के लिए 'बिचौलिए' नियुक्‍त किए हैं लेकिन उनसे कुछ बड़ा परिणाम निकलता नहीं दिखाई दे रहा है।

नांदेड़ में अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस पर योग कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने पहुंचे बाबा रामदेव ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हिंदू और मुसलमानों का डीएनए एक है। मुसलमान हमारे भाई हैं और हमारे पूर्वज एक हैं। राम केवल हिंदुओं के पूर्वज नहीं हैं, वह मुसलमानों के भी पूर्वज हैं। हमें अपने पूर्वजों का अनादर नहीं करना चाहिए। हिंदुओं और मुसलमानों को अपने पूर्वजों का गौरव बढ़ाना चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि राम मंदिर बनाने के दो तरीके हैं या तो सुप्रीम कोर्ट जल्‍द सुनवाई कर इसका फैसला दे। आस्‍था सबसे बड़ी चीज है और इस पर कुठाराघात नहीं करना चाहिए। दूसरा विकल्‍प यह है कि जनता खुद ही बनाना शुरू कर दे लेकिन तब लोग इस पर सवाल उठाना शुरू कर देंगे। मुझे विश्‍वास है कि पीएम मोदी के नेतृत्‍व में राम मंदिर भी बनेगा और राम जैसा चरित्र भी बनेगा।
Share To:

Post A Comment: