बद्तर पेयजल व्यवस्था से ग्रामीण हताश

 पर्याप्त संसाधनों के बाद भी नहीं मिल रही राहत 

उमरियापान/सिलौंड़ी:- अपनी कारगुजारियों के लिए लगातार चर्चित रही ग्राम पंचायत सिलौंड़ी एक बार फिर चर्चा में है।विषय से भीषण गर्मी से जूझ रहे लोगों को जलापूर्ति का। ग्रामीणों ने बताया कि 4 से 5 बोर होने के बावजूद भी लोगों को पर्याप्त जलापूर्ति नहीं हो पा रही है जिसका सबसे बड़ा कारण पंचायत के नुमाइंदों द्वारा बरती जा रही लापरवाही और पंचायत का खराब प्रबंधन है।आलम यह है कि लोगों को बमुश्किल 100 लीटर पानी के लिए भी जद्दोजहद करनी पड़ती है। वार्ड क्रमांक 1 और सोनार मोहल्ले में भारी किल्लत स्थानीय बाशिंदों ने बताया कि वार्ड क्रमांक 1 व 20 के अंतर्गत आने वाले घरों में जलापूर्ति नहीं हो पा रही है जबकि सुनार मोहल्ले में स्थिति और बदतर है
केशलाल रजक ने बताया कि दैनिक उपयोग के लिए पानी मिल पाना भी कठिन है।नलकूप खनन कराने के बाद भी नहीं मिल रही राहत विगत वर्षों में जल आपूर्ति संबंधी समस्या को देखते हुए संबंधित जनप्रतिनिधियों ने भरसक प्रयास किया और लगभग आधा दर्जन नलकूप खनन कराए जिनमें से जल प्रदाय सुनिश्चित कराया गया लेकिन विकृत नियम कायदो में उलझी पंचायत इस सौगात को भी जनता के हित में प्रयुक्त नहीं कर पाई।मकड़जाल बनी पाइपलाइन
पुरानी पाइप लाइन व नई स्वीकृत कराई गई पाइप लाइन और उस पर लगाई गई वॉल्बों की वजह से पूरी तरह मकड़जाल सी स्थिति निर्मित हो गई है और वॉल्बों के खेल में जनता की दुर्दशा दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।अव्यवस्था का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कुछ जगहों पर जलापूर्ति घंटों होती रहती है जबकि कुछ मिनट के लिए भी पानी पहुंच जाए तो राहत की बात होती है।
Share To:

Post A Comment: