चित्रकूट - ग्राम विकास अधिकारी विनोद कुमार शासकीय कार्यों में नही ले रहे  रुचि जिला मुख्यालय से महज 23किलोमीटर की  दूरी में स्थित विकास खण्ड कवीँ के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत बंदरी में ग्रामीणों ने  खंण्ड विकास अधिकारी कवीँ व अधिकारियों व ग्राम प्रधान की मिलीभगत से  सरकारी पैसे का किया दुरुपयोग ग्राम प्रधान अपनी उपयोगिता को देखते हुए बनवाया अपने ही जमीन पर सरकारी पैसे से बारात घर का जिसका उपयोग ग्राम प्रधान खुद कर रहा है बार बार मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत करने के बावजूद भी खंड विकास अधिकारी ऑफिस में बैठे ही बैठे रिपोर्ट लगा देते हैं और ग्राम प्रधान का हौसला बुलंद करते रहते हैं ऐसे में शिकायतकर्ता निराश होकर शांत हो जाते हैं शिकायतकर्ता ने बताया कि मुझे उच्च अधिकारियों द्वारा न्याय न मिलने से अब मैं कोर्ट की शरण में जाऊंगा जिससे  मुझे न्याय मिल सके जबकि ग्रामपंचायत के पास कई जगह ग्रामसभा ही जमीन पड़ी है।
सूत्रों की माने तो जंहा विवाह घर का किया जा रहा है निर्माण वँहा से काफी दूर है ग्रामपंचायत के गांव आखिर इस तानाशाही रवैए से कब तक ग्राम पंचायतों में सरकारी धन का होता रहेगा दुरूपयोग या फिर जिम्मेदार अधिकारी कब देंगे ध्यान या इसी तरह शौचालय में भी है काफी भ्रष्टाचार ।कब खुलेगी उच्च अधिकारियों की कुंभकरणी नींद जब इस विषय पर खंड विकास अधिकारी कर्वी से बात की गई तो उन्होंने कहा की यह सारा प्रकरण मेरे अधिकार क्षेत्र से बाहर है इसको जिला पंचायत राज अधिकारी ही बता पाएंगे कितनी धनराशि निर्गत की गई है और बंदरी ग्राम पंचायत पर बरात घर का निर्माण हो रहा है या नहीं वही बता पाएंगे मुझे इस प्रकार में कोई जानकारी नहीं है ऐसे में जब जिला पंचायत राज अधिकारी का दूरभाष से संपर्क किया गया तो बार-बार कवरेज क्षेत्र से बाहर कवरेज क्षेत्र से बाहर बता रहा था जिससे उनसे बात नहीं हो सकी।

ब्यूरोरिपोर्ट- अश्विनी कुमार श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं वेब न्यूज चैनल
जनपद-चित्रकूट
Share To:

Post A Comment: