कोरिया। छत्‍तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी पी एल पुनीया द्वारा जब से यह स्पष्ट किया गया है कि राज्य सरकार द्वारा निगम, मण्डल और आयोग में कांग्रेस पार्टी के मेहनती, ईमानदार और समर्पित और निष्ठावान कर्मठ कार्यकर्ताओं प्राथमिक दी जायेगी तब से लेकर अब तक कयासों का दौर जारी है वहीं निगम, मंडल और आयोगों में भी नियुक्ति के लिए अंदरूनी तौर पर सर‍गर्मियां तेज हैं। सत्‍ता ही नहीं, बल्कि कांग्रेस के संगठन में भी इसे लेकर गुणाभाग चल रहा है।

अगर बात कोरिया जिले की कि जाए तो सबसे पहला नाम उस शख्सियत का जिसने कांग्रेस पार्टी के लिए अपना पूरा जीवन न्यौछावर कर दिया, बात हो रही है अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्या एवं पूर्व जिला अध्यक्ष श्रीमती प्रभा पटेल, जो मण्डल या आयोग के अध्यक्ष पद के लिए कोरिया जिले से प्रबल दावेदारों में से एक हैं।

 प्रभा पटेल ने 1994 में नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव जीतकर 1999 तक नगर पालिका अध्यक्ष पद पर मनेंद्रगढ़ में अपनी पार्टी के वर्चस्व को बनाया इसके बाद 1999 से लेकर 2004 तक नगर पालिका में पार्षद रही और अपने राजनीतिक भूमिका को जीत के साथ कायम रखा ,2004 में दुबारा नगर पालिका अध्यक्ष पद पर जीत कर ये साबित कर दिया कि महिलाए किसी भी क्षेत्र में कम नही, एक सफल महिला नेत्री बनकर जनता का विश्वास जितने में सफलता प्राप्त की , भाजपा के बड़े से बड़े नेताओं को धुल चटा कर दो पंचवर्षीय आपने नाम का पूरे प्रदेश डंका पीटा एवं 2003 से लेकर 2008 तक जिला अध्यक्ष महिला कांग्रेस शहरी जिसमें उन्होंने आसपास के क्षेत्रों से लेकर शहरी क्षेत्र में महिलाओं को अपने साथ कांग्रेस में जोड़ कर रखा जिसका बहुत बड़ा फायदा कांग्रेश को मिला 2014 से लेकर 2018 तक जिला अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी कोरिया में रहकर सभी चुनाव (2015) में नगर पंचायत से लेकर नगर पालिका व नगर निगम सहित अनेक पंचायतों में कांग्रेस का परचंम लहराते हुए भाजपा मुक्त कोरिया बनाया ऐसी उपलब्धि के साथ 1995 से लेकर 2000 तक जिला योजना समिति सदस्य रहकर जिले की योजनाओं को अपनी पार्टी कार्यकता के साथ मिलकर जनता बीच सम्मान के कार्य करते हुए गांव - गांव और शहर को अपनी पार्टी के साथ जोड़ा और 2018 में पार्टी आलाकमान द्वारा श्रीमती पटेल को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस कमेटी सदस्य का दायित्व सौंपा गया जिसमें वह अब तक बिल्कुल खरी उतरीं। 

एवं पिछले 2 पंच वर्षीय से मनेंद्रगढ़ विधानसभा से विधायक टिकट के प्रबल दावेदार होने के बाद टिकट ना मिलने के बावजूद प्रभा पटेल ने पूरे जी-जान से अपनी टीम के साथ कांग्रेस के लिए काम किया। जिसके परिणाम स्वरूप 2018 के विधानसभा चुनाव में मनेन्द्रगढ़ नहीं बल्कि कोरिया जिले कि तीनों सीट जीतने में अहम भूमिका निभाई थीं।उन्होंने कांग्रेस को जीताने के लिए काफी मजबूती के साथ अपना तन, मन, धन लगाकर कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने का काम किया इसलिए चुनाव में कमोबेश कांग्रेस को ही भारी जीत मिली थीं। 

यदि आलाकमान प्रभा पटेल को निगम मंडल आयोग में तरजीह देती है तो वाकई में एक काबिल, निष्ठावान व समर्पित कांग्रेस कार्यकर्ता के लिए सम्मान की बात होगी। वहीं कोरिया जिले में जहां कांग्रेस मजबूत होगी, वही पूरे प्रदेश में महिलाओं का सम्मान व मनोबल बढ़ेगा।

वही कोरिया जिले से योगेश शुक्ला, रमेश सिंह, वेदांती तिवारी, नजीर अजहर, राजेन्द्र बोदिया, हरजीत सिंह छावडा़ (टिटु भैया), अशोक श्रीवास्तव, रामअवतार अलगमकर, ओमप्रकाश गुप्ता (बड्कु भैया) व प्रवीण जैन भी लालबत्ती की रेस में चर्चा का विषय तेज हैं।
Share To:

Post A Comment: