चित्रकूट- जिलाधिकारी  शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में मंदाकिनी नदी के पुनरूद्धार के संबंधमें कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में सर्वप्रथम मंदाकिनी नदी के पिछले वर्ष करायी गई सफाई से सम्बन्धित एक डाक्यूमेंट्री फिल्म दिखायी गई। जिसमें नागरिकों ने अपने अनुभव बताते हुए सफाई से होने वाले लाभों के सम्बन्ध में बताया। जिलाधिकारी ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2018-2019 हेतु जिन ग्राम पंचायतों को मंदाकिनी नदी की खुदाई / सफाई का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। उसके सम्बन्ध में पहाड़ी के 19 ग्रामों के प्रधानों/सचिवों द्वारा जानकारी की गई कि किस ग्राम पंचायत में कितना कार्य शेष है तथा जिन ग्राम पंचायतों ने कार्य पूर्ण कर लिया है । उन ग्राम पंचायतों को प्रशस्ति पत्र तथा जिनका कार्य थोड़ा शेष है उन्हें 30 जून 2019 तक पूर्ण कराने तथा फीडिंग कराने के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा कि मंदाकिनी नदी की जलधारा को सूखने से हर संभव कदम उठाकर बचाना है। यह नदी भगवान श्रीराम के यहां आगमन की साक्षी है। उपायुक्त मनरेगा को निर्देश दिये कि मंदाकिनी नदी की जलधारा को बढ़ाने हेतु हर संभव प्रयास किये जायें। जहां-जहां जलश्रोत हैं उनकी सफाई करायी जाय। नदी के किनारे बरगद,पीपल,नीम आदि के पेड़ों का वृहद् वृक्षारोपण कराया जाय। अमावस्या मेला से पूर्व सिंचाई,नगर पालिका व ग्राम पंचायतें मिलकर नदी की सफाई का कार्य करा लें। यह कार्य नियमित रूप से चलता रहे यह भी सुनिश्चित किया जाय। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा0 महेंन्द्र कुमार, प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश, जिला विकास अधिकारी आर0के0त्रिपाठी,उपायुक्त मनरेगा अरूण कुमार सहित मंदाकिनी सेना एवं बुन्देली सेना के कार्यकर्ता व अन्य अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

ब्यूरोरिपोर्ट-अश्विनी कुमार श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं वेब न्यूज चैनल
जनपद-चित्रकूट
Share To:

Post A Comment: