आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने दिया इस्तीफा

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। डिप्टी गवर्नर के तौर पर उनका 6 महीने का कार्यकाल शेष था लेकिन इसके पहले ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि विरल आचार्य अगले साल फरवरी के बजाय इस साल अगस्त में ही न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस में बतौर प्रोफेसर लौट रहे हैं। इस रिपोर्ट पर आरबीआई की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

7 महीने के भीतर ये दूसरी बार है जब आरबीआई के किसी उच्‍च अधिकारी ने अपना कार्यकाल पूरा होने से पहले ही पद से इस्तीफा दे दिया है। इससे पहले आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल ने दिसंबर में निजी कारणों का हवाला देते हुए अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया था।

दिसंबर 2016 में भारतीय रिजर्व बैंक ने विरल आचार्य को तीन साल के लिए डिप्टी गवर्नर के पद के लिए चुना था। विरल आचार्य न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे हैं। वे स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस में पढ़ा चुके हैं। इससे पहले आचार्य लंदन बिजनेस स्कूल से प्राइवेट इक्विटी इंस्टीट्यूट के फाइनेंस एंड एकेडमी डायरेक्टर थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, विरल आचार्य ने 6 जून को आयोजित आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की अंतिम बैठक से पहले अपना इस्तीफा सौंप दिया था। वहीं, आरबीआई ने इस रिपोर्ट की ना तो पुष्टि की है और ना ही इसका खंडन किया है।
Share To:

Post A Comment: