चित्रकूट- जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में नीति आयोग के ‘‘एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम’’ की समीक्षा एवं आगामी सौ दिनों की कार्य योजना पर चर्चा की गई। जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग के 08 इण्डिकेटर पर विस्तृत चर्चा करते हुए पिछले वर्ष की उपलब्धियों एवं चुनौतियों पर व्यापक चर्चा पिरामल फाउण्डेशन की टीम के साथ की और चुनौतियों को दूर करने के निर्देश दिये। शिक्षा विभाग की सौ दिन की आगामी कार्य योजना में नामांकन,डेमो स्कूल रिमीडियर क्लासेस हेतु मुख्य जोर दिया गया। इसके अलावा स्वास्थ्य,शिक्षा,आई.सी.डी.एस.,पशु पालन आदि विभागों के सूचकांकों की प्रगति के संबंध में समीक्षा की और कहा कि जिन-जिन विभागों की रैंकिंग कम है वह समय से कार्य करके सूचना उपलब्ध करायें। ताकि जनपद की रैंकिंग अच्छी रहे। जिला बेसिक शिक्षाधिकारी को निर्देश दिये कि जिन विद्यालयों में बाउण्ड्री वाल नहीं बनी है उसमें धनराशि मॉंग के लिए मेरी ओर से शासन का पत्र भेजा जाय। विद्यालय में जो कमियां हो उसकी पूरी प्लानिंग बना ली जाय। जिला कृषि अधिकारी से कहा कि जिन इण्डिकेटरों की फीडिंग शासन स्तर से नहीं हो पा रही है जिसकी वजह से जनपद की रैंकिंग कम है उसमें मुझसे वार्ता करायें ताकि इसका निस्तारण हो सके। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि ग्राम स्वास्थ्य निधि से जिन आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों की तौल मशीन नहीं है उसकी सूची आई.सी.डी.एस. से प्राप्त करके मशीनों को खरीदें और जिले में जिन चिकित्सकों की कमी है उनके लिए प्रमुख सचिव को मेरी ओर से पत्र लिखवाया जाय। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 महेन्द्र कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 राजेन्द्र सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 सुधीर सिंह, जिला बेसिक शिक्षाधिकारी प्रकाश सिंह,जिला सूचना विज्ञान अधिकारी  मनोज कुमार यादव, जिला कृषि अधिकारी  बसंत कुमार दूबे, अर्थ एवं संख्याधिकारी  राजेश कुमार सहित संबंधित अधिकारी व पिरामल संस्था के लोग मौजूद रहे।
जिलारिपोटर-विवेक श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं वेब न्यूज चैनल
जनपद-चित्रकूट
Share To:

Post A Comment: