आबकारी विभाग ने सभी FL-2,3 लायसेंस धारी होटल, पब और बार को आदेश दिया है कि वो एक लाइसेंस से सिर्फ़ एक ही परिसर के स्थान में शराब बेचे। अलग से परमिट लेकर ही अन्य किसी स्थान पर शराब सर्व करे। नहीं तो उनका लाइसेंस निरस्त कर दिया जाएगा । इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, उज्जैन, जबलपुर सहित प्रदेश के कई नामी और बड़े होटलों में एक लायसेंस पर एक से अधिक और दो-तीन स्थानों पर शराब बेच कर सरकार को करोड़ों रूपए के राजस्व की हानि पहुँचा रहे है । इस मामले में इंदौर के आरटीआई कार्यकर्ता आर.के.गुप्ता की शिकायत पर शासन स्तर से जाँच व कार्यवाही का आदेश दिया था। शिकायत पर इंदौर के पूर्व डीसी विनोद रघुवंशी ने गम्भीरता से विस्तृत जाँच करवाए जाने का प्रतिवेदन भी आबकारी आयुक्त के माध्यम से शासन को भेजा था। इस मामले में लोकसभा निर्वाचन 2019 के समय भी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को शिकायत हुई थी। चुनाव निपटने के बाद जिस प्रकार से इंदौर एसी ने आदेश जारी किया है उससे समझा जा सकता है उसका पालन कितना होगा ? अगर लायसेंसी खुद पालन कर रहे होते तो आदेश ही क्यों जारी करना पड़ता !
Share To:

Post A Comment: