संतुष्टि पूर्वक करें सीएम हेल्पलाईन के प्रकरणों का निराकरण - कलेक्टर

समय सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक सम्पन्न

कटनी - कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने कहा कि सीएम हेल्पलाईन के प्रकरणों में त्वरित रुप से कार्यवाही करते हुये समय-सीमा मे संतुष्टिपूर्ण निराकरण करें। उन्होने कहा कि शासन के सर्वोच्च प्राथमिकता के इस फोरम में आपके द्वारा त्वरित और संतुष्टिपूर्ण की गई कार्यवाही से आपके कार्य और दक्षता का सीधा रिफ्लेक्शन होता है। सोमवार को समय सीमा प्रकरणों की कलेक्ट्रेट में सम्पन्न बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने सीएम हेल्पलाईन के 100 दिवस और 500 दिवस के अधिक समय सीमा के लंबित प्रकरणों की समीक्षा की। इस मौके पर आयुक्त नगर निगम ए0बी0 सिंह, संयुक्त कलेक्टर व प्रभारी सीईओ जिला पंचायत सपना त्रिपाठी, एसडीएम बलबीर रमन सहित तहसीलदार और विभाग प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने सीएम हेल्पलाईन के अत्याधिक समय से लंबित चल रहे प्रकरणों की विभागवार जानकारी लेकर प्रकरणों की प्रकृति और लंबित रहने के कारणों की जानकारी ली। उन्होने कहा कि सीएम हेल्पलाईन में शिकायत प्राप्त होते ही विभाग के एल-1 अधिकारी तत्काल अटेण्ड करें और आवेदक से दूरभाषण पर चर्चा कर निराकरण संबंधी विधिसम्यक प्रयास करें। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि विभाग प्रमुख अधिकारी एल-1 स्तर के अधिकारी की बैठक लेकर सभी लंबित शिकायतें एक सप्ताह के भीतर निराकृत करायें। कृषि और कृषक बीमा तथा उपार्जन संबंधी किसानों के प्रकरणों पर तत्काल गंभीरता पूर्वक कार्यवाही कर निराकरण करें। आदर्श आचरण संहिता के दौरान नहीं किये जा सकने वाले खाद्य विभाग की पात्रता पची और अन्य विभागों की हितग्राही मूलक योजनाओं के हित लाभ के सभी प्रकरण एक सप्ताह के भीतर निराकृत करना सुनिश्चित करें।पेयजल संबंधी शिकायतों का तत्काल निराकरण करना सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुये कलेक्टर ने कहा कि नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की व्यवस्था सुदृढ़ रखें। आवश्यकता होने पर या अन्य विकल्प नहीं होने पर परिवहन भी कराया जाये।कलेक्टर ने विभागवार उत्तरा टीएल के दर्ज प्रकरणों पर भी चर्चा की और इन्हें समय सीमा में निराकृत करने के निर्देश दिये। समय सीमा की बैठक में जनसुनवाई, एक दिवस समाधान तत्काल सेवा, जनशिकायत निवारण, पीजी सेल, जनशिकायत सीपीजीआर, एएमएम, न्यायालयों में लंबित प्रकरण, आयोग के पत्रों पर की गई कार्यवाही, सांसद, विधायक, जनप्रतिनिधियों क पत्रों एवं शासन से प्राप्त निर्देशों के पालन और निराकरण के संबंध में भी समीक्षा की गई। लोकसेवा गारंटी के समय सीमा बाह्य प्रकरणों की समीक्षा करते हुये कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि प्रकरणों का निराकरण निर्धारित समय सीमा में करें अन्यथा दण्ड अधिरोपित करने की कार्यवाही की जायेगी।

Share To:

Post A Comment: