✓ ओ0एल0एक्स0 पर फर्जी तरीके से सुरक्षा बलों के अधिकारी/कर्मचारी बनकर, क्रय-विक्रय के नाम पर करोड़ों रूपये की ठगी करने वाले ठगोरों पर क्राईम ब्रांच इंदौर ने किया मुकदमा दर्ज।

✓ 79 नामजद आरोपियों सहित अन्य संलिप्त लोगों के विरूद्ध किया प्रकरण कायम।

✓ ठगोरे, सुरक्षा बलों में कार्यरत कर्मचारियों के नाम के फर्जी दस्तावेज व पहचान पत्र की कूट रचना कर बेईमानीपूर्वक करते थे उपयोग।

✓ दो दर्जन से अधिक फरियादियों द्वारा की गई शिकायतों पर कार्यवाही करते हुये क्राईम ब्रांच ने किया अपराध पंजीबद्ध।

✓ म0प्र0, उ0प्र0, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र, बिहार, उत्तराखण्ड, तेलंगाना, झारखण्ड, छत्तीसगढ़ तथा पंजाब के रहवासी ठगोरे दे रहें अॅानलाईन ठगी की वारदातों को अंजाम।

✓ ठगी, धोखाधड़ी, कूटरचना सहित आईटी एक्ट की धाराओं में पंजीबद्ध किया गया अपराध।

इन्दौर-दिनांक 03 जुलाई 2019-  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (शहर) इन्दौर श्रीमती रुचि वर्धन मिश्र द्वारा ओएलएक्स तथा अन्य माध्यमों से ठगी करने वाले आरोपियों के संबंध में तस्दीक कर उन के विरूद्ध विधिसंगत कार्यवाही करने के लिये इंदौर पुलिस को निर्देशित किया गया था। उक्त निर्देशों के तारतम्य में पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय) इंदौर श्री अवधेश कुमार गोस्वामी के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अपराध श्री अमरेन्द्र सिंह द्वारा इस विषय की क्राईम ब्राँच में प्राप्त हो रही शिकायतों की गहनता से जांच कर आरोपियों के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर, उनकी गिरफ्तारी करने हेतु संबंधित अधिकारी/कर्मचरियों को निर्देषित किया गया था। 

लगातार बढ़ते हुये सायबर अपराधों के संबंध में क्राईम ब्रांच इंदौर में सीधे एवं वरिष्ठ कार्यालयों के माध्यम से बड़ी संख्या में शिकायतें प्राप्त हो रही हैं जिसमें अधिकतम शिकायतें ओएलएक्स के द्वारा तथा ओटीपी के माध्यम से किये गये आर्थिक ठगी एवं फ्रॉड से संबंधित हैं। उपरोक्त प्राप्त शिकायतों की जांच के दौरान यह तथ्य प्रकाष में आया कि ओ.एल.एक्स. ऑनलाईन शॉपिंग साईट्स पर मंहगे मोबाईल फोन जैसे कि वन प्लस फोन, रेडमी प्रो-फोन,, वीवो वी 15 आदि, तथा दोपहिया वाहन जैसे सी.डी. डीलक्स बाईक, एक्टिवा 4जी, बुलेट आदि एवं चार पहिया वाहन जैसे आई-20 , स्विफ्ट डिजायर, स्कार्पियो , बोलेरो , इको आदि को बेचने के लिये ठगों द्वारा विज्ञापन जारी किये जाते हैं तथा ओ.एल.एक्स. के विज्ञापन में उत्पाद के फोटो सहित संपंर्क हेतु मोबाईल नम्बर लेख किये जाते हैं। खरीददार व्यक्तियों द्वारा जब उत्पाद को खरीदने के लिये दिये गये मोबाईल नम्बर पर संपंर्क किया जाता है तब कॉल रिसीव करने वाले अज्ञात व्यक्ति, स्वयं को आर्मी, सी.आई.एस.एफ. एवं अन्य डिफेन्स फोर्सेस का कर्मचारी होना बताते हैं तथा खरीददार का भरोसा जीतने के लिये उसको फर्जी तरीके से बनाए गये डिफेन्स सर्विसेस के आई.डी. कार्डस् आदि की प्रति भेजते हैं। खरीददार द्वारा खरीददारी करते वक्त, ये ठग गिरोह के लोग, मोबाईल, टू व्हीलर, फोर व्हीलर वाहन तथा अन्य उत्पादों के फर्जी तथा जाली बिल, स्वयं की पहचान के नकली आधार कार्ड, आदि खरीददार को व्हॉट्सएप्प पर भेजकर यह विश्वास दिलाते हैं कि अनावेदक किसी डिफेंस सर्विसेस में कार्यरत् हैं एवं आर्म्ड फोर्स में रहकर देश की सेवा कर रहे हैं। इन ठगोरों पर विश्वास करके खरीददार, एडवांस राशि ठगोरों के बताये अनुसार ई-वॉलेट एवं उनके निजी खातों में जमा कर भुगतान करके चुका देते हैं। 

ठगोरे इतने चतुर होतें हैं कि ठगी करने के लिये खरीददारों को उत्पाद कोरियर के माध्यम से भेजे जाने का प्रलोभन देकर उन्हें फर्जी कोरियर स्लिप, पार्सल देते हुए फोटोग्राफ, आदि जाली दस्तावेज व्हॉट्सएप्प पर भेजकर यह विश्वास दिलाते हैं कि उनके द्वारा खरीदी गई वस्तु आर्मी ओवरनाइट कोरियर के माध्यम से भेज दी गयी है। इसके बाद इन्हीं ठगोरों के द्वारा एक-दो दिवस किसी अन्य मोबाईल नंम्बर से खरीददारों से सम्पर्क कर स्वयं को कोरियर बॉय बताया जाता है तथा यह यकीन दिलाया जाता है कि आपके द्वारा बुक की गयी वस्तु (मोबाईल फोन, टू व्हीलर, फोर व्हीलर आदि) आपके पते पर डिलीवरी भेजे जाने हेतु संबंधित कोरियर कार्यालय में आ चुकी है लेकिन बदले में खरीददारों से एडवांस भुगतान के बाद चुकाई जाने वाली शेष राशि का भुगतान हेतु यह कहकर विवश किया जाता है कि शेष राशि का भुगतान ऑनलाईन माध्यम से प्रदाय किये गये ई वालेट अथवा बैंक खातों में जमा कर, तत्काल किया जावे तभी वस्तु आपके सुपुर्द की जायेगी। विश्वास करते हुये कई खरीददारों द्वारा वस्तु के सौदे के लिये तय की गई संपूर्ण राशि ठगोरों के ई वॉलेट्स एवं बैंक खातों में ट्रांसफर कर भुगतान कर दी जाती हैं। संपूर्ण राशि प्राप्त होने के बाद भी जब उन्हें खरीदी गई वस्तु प्राप्त नहीं होती है ना ही उनके द्वारा भुगतान की गई राशि वापस प्राप्त होती है ऐसी स्थिति में खरीददार स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर शिकायत करते हैं। 

उपरोक्त प्रकार की विभिन्न शिकायतें क्राईम ब्रांच में निम्नांकित आवेदकों द्वारा की गई थी जिनके नाम आवेदक बादल पंवार, देवेन्द्र प्रजापत, गोविंद मकवाना, कृष्णा रिछोदिया, संतोष सिटोले, नितेश यादव, सार्थक कोचर, आफताफ कुरैशी, अर्जुन मेहरा अमन जैन देवेन्द्र पंवार, हुकमचंद विश्वकर्मा, अनिल कावरे , शुभम राय, पूजा तोमर, दिलीप मुवेल, सुनिल गौस्वामी, गौतम जैन, उमेश बैरागी, लोकेश कुमार गुर्जर, महेश कुमार, शुभम पलासियावाला, यश वर्मा, हर्ष तावड़े, तथा सागर आदि हैं उपरोक्त आवेदकों द्वारा की गई षिकायतों की जांच में आये ठगोरों के मोबाईल नम्बर, ईवॉलेट्स एवं बैंक खातों के संबंध में कहराई से तस्दीक करने पर विदित हुआ कि अधिकांश बैंक खातें तथा मोबाईल नम्बर राजस्थान के जिला भरतपुर (तेहसील-कठौल, अलवर, जुरहरा, डीग, खोह, कामां आदि) एवं हरियाणा राज्य के जिला रोहतक, फरीदाबाद, गुडगाँव, तथा उ.प्र. के जिला गौतम बुध्द नगर, आदि में पंजीकृत होकर सक्रिय हैं ।

जाँच में पाया गया कि आरोपी राहिल पिता शाहीद खान निवासी ग्राम ढिमरी, तेहसील पहारी, जिला भरतपुर राजस्थान, राशिद हुसैन पिता सुलेमान, निवासी हाउस नं. 192, झिरका मेवात नागिन फिरोजपुर, रुकमुद्दीन निवासी ग्राम गौरमी, तहसील जुरेहरा,जिला भरतपुर राजस्थान, तमिल निवासी ग्राम गनवारी, तहसील कामां, जिला भरतपुर राजस्थान, फारुन खाना निवासी प्लॉट नं. 500, मस्जिद के पास बक्तल की चौकी, अल्वर राजस्थान, नस्सार निवासी हिन्गोटा, डीग भरतपुर राजस्थान, प्रवीन कुमार निवासी 23 ग्राम फतेहपुर, सेक्टर 20 पंचकुला हरियाना कुन्तादेवी निवासी ददरोनी राजस्थान, नईद अहमद, जुबेर खान पिता शा. नसरुद्दीन निवासी ग्राम पठखोरी पोस्ट एगोन तहसील झिरका, जिला मेवात हरियाणा अजय शर्मा निवासी हरी मन्दिर भरतगड़ मोडल टाउन बरैली उत्तर प्रदेश, दीनू निवासी ग्राम पाई, तेहसील कामां, राजस्थान, अरुण नागवानी निवासी वार्ड नं. 11, जगमोहन दास वार्ड, मुरवारा, राधास्वामी सत्संग भवन गली, कटनी(म. प्र.), कमलुद्दीन मोजखान निवासी 1054/2, कामधेनु यार्न प्रा.लिमि. वेदा तहसील मन्सा, जिला गांधीनगर गुजरात, नसरी पति साहबदीन उम्र 53 वर्ष निवासी दुनावल तहसील नागर, भरतपुर राजस्थान, आरिफ पिता मजीद निवासी कांमा धिलावटी, राधानगरी, भरतपुर, अकाटा राजस्थान, मुबारिक पिता रत्ति खान, निवासी झीलपट्टी बरोली धाऊ भरतपुर राजस्थान, सोकीन पिता आसीन निवासी ग्राम झेंझपुरी पोस्ट बरौली धाउ तेहसील कामां भरतपुर राजस्थान रंजन बेहेरा निवासी अथमलिक, अंगुल, फोरेस्ट कोलोनी ओड़िसा, इलियास खान पिता छोटल्ली निवासी दुनावल नागर भरतपुर राजस्थान, नइद अहमद निवासी ग्राम बाबारेखेड़ा पोस्ट कुन्डा, उधम सिंह नगर उत्तराखण्ड, धर्मेन्द्र कुमार निवासी हराहु वारानसी उत्तर प्रदेश, अस्लम निवासी चोरोटी पहाड़ रामगढ़ अल्वर राजस्थान , कैलाश भगत निवासी ग्राम छोटी पोस्ट लालबर्रा, वारासिओनी बालाघाट, कैलाश चन्द निवासी नागर दुनावल भरतपुर राजस्थान, पिन्की निवासी नागर दुनावल भरतपुर राजस्थान, मोहम्मद फैसल निवासी 18-8-139/2/सी, तेलंगाना हैदराबाद, राहीला पति आजाद निवासी ग्राम जंगावाली शेरगढ़ तेह. छाता जिला मथुरा यूपी हरेन्द्र सिहं निवासी म. नं. 14ए नागला सीता पुलिस स्टेशन हाइवे, मथुरा यूपी, विक्रम निवासी 38 फेस एक्स सेक्टर 64, एस ए एस नगर एसबीआई कोलोनी 62 मोहाली पंजाब, भगवान सिंह निवासी पटका दुनावल नागर भरतपुर, रत्नेश सागर पिता मान सिंह निवासी ग्राम बहारारेखपुरा, तेह. रूपबास जिला भरतपुर ,  गौरव कुमार निवासी 234 ए/5, निराट नगर कानपुर युपी, रुबी देवी निवासी भवानीपुर जगधारी यमुना नगर, कपाल मोचन हरियाणा, पुष्पा देवी निवासी ग्राम गुलारिया अत्रोली अलीगढ़ बोनइ यू. पी., प्रदीप सिंह निवासी 17 कोहारा 2 ग्राम सुरवर, सिरमौर रीना म. प्र., युनुस मुल्ला निवासी पुर्बा पारा बालीगोरी, चक्पनचुरिया वेस्ट बंगाल, चौधरी अरविंद सिहं यादव निवासी बदिन माउ यूपी, मुजम्मिल खान निवासी शाहपुर ताही सहसवन बंदायू युपी, रामकुमार निवासी जरंग मल्लाहटोली देहोरी गयघाट मुजफ्फरपुर बिहार, सुमित धनन्जय निवासी 24, दत्ता कोलोनी, गायत्री नर्सरी के पास सांई नगर अम्रावती माहाराष्ट्र, आशु राजा निवासी म. नं. जी 46 एमसीडी फ्लेट्स, जीटीबी नगर ढाका चौक किंग्स वे केम्प नोर्थ वेस्ट दिल्ली, आदित्य गुप्ता निवासी म.नं. 19 वार्ड नं. 11, चट्टी गली राजौरी जम्मू एण्ड कश्मीर, मुजाहिद पिता हामिद निवासी ग्राम झेंझपुरी बरौली धाउ तेह कामां भरतपुर, अल्ताफ राजा निवासी ग्राम तायरा कामां भरतपुर, शेर सिंह कुन्दलिया, पवन अमृतलाल, कमलेश कुमार शर्मा, कमलजीत सिंह, उमेश बैरागी केतन, सन्तरा निवासी 50 नहरपुर जाट मोहल्ला अल्वर राजस्थान, कृष्णा मांझी निवासी दखिनटोला शैकपुर बिहार, साजित खान निवासी ग्राम छलोदी पोस्ट छलोदी मोजपुर अल्वर राजस्थान, सूबचेन खान निवासी वार्ड नं. 07 बूनटोली अल्वर राजस्थान राहुल ढाका निवासी वार्ड नं. 10 श्री माधोपुर सीकर सिमराला राजस्थान, हेमन्त तनवर निवासी म. नं. 86 ग्राम-पोड़ी तेहसील-उपरोधा महाराष्ट्र, अभिषेक कुमार निवासी वार्ड नं. 16 ग्राम पोड़ी उपरोधा कोरबा छत्तीसगड़, अब्दुल करीम पिता यमीन खान निवासी ग्राम गुबरादी, मस्जिद के पास मेवात हरियाणा शेर खान निवासी पहाड़ी का बास रामगड़ बहाला अल्वर राजस्थान, कान्ता प्रसाद निवासी गुल्शन नगर बरैली युपी, सरिता राठौर निवासी खानपुर, झालावाड़, माताजी के मन्दिर के पास सोजपुर राजस्थान, हनीफ निवासी घाटीबास चन्दोली अल्वर राजस्थान, धनानी इरफान भाई जमाल भाई निवासी गेबान्सा सोसायटी जसदन राजकोट गुजरात, हरीश निवासी ग्राम हिंगोटा स्कूल के पास तेह डींग भरतपुर, साबिर खान पिता समसु खान निवास ग्राम/पोस्ट चंदोली अल्वर राजस्थान, एवं अन्य द्वारा ओएलएक्स पर आवेदकों से लाखों रूपये की धोखाधड़ी की गयी है। 

उपरोक्त शिकायतकर्ताओं के आवेदनों की जाँच में पाया गया गया कि आरोपियों द्वारा छलपूर्वक सुरक्षा बलों में कार्यरत कर्मचारियों के नाम के फर्जी दस्तावेज व पहचान पत्र की कूट रचना कर उनका बेईमानीपूर्वक उपयोग कर आवेदकों की राशि अपने खातों में जमा करवा कर सदोष लाभ अर्जित किया है व सुरक्षा बलों की ख्याति का दुर्पयोग कर आवेदकों के साथ ठगी कर उन्हें आर्थिक हानि पहुंचाई है जिनके द्वारा अपराध धारा 419,420,467,468, 469,471,506 भादवि एवं 66 आईटी एक्ट का घटित किया जाना पाया गया है। अतः कुल 26 आवेदकों की शिकायतों पर जाचं करते हुये दोषी पाये गये 79 नामजद आरोपी सहित अन्य के विरूद्ध थाना अपराध शाखा  इन्दौर में अपराध क्रमांक 04/19 धारा 419,420,467,468,469,471,506 भादवि एवं 66 आईटी एक्ट के तहत कायम किया गया है।

Share To:

Post A Comment: