समाज के कमजोर वर्गो के प्रति संवेदनशीलता विषय पर 2 दिवसीय जोन स्तरीय कार्यशाला का पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन, जबलपुर ने किया शुभारंभ            

Kkkन्यूज जबलपुर- आज दिनॉक 3-7-19 के प्रातः 10-30 बजे समाज के कमजोर वर्गो के प्रति सवेंदनशीलता विषय पर 2 दिवसीय जोन स्तरीय आयोजित सेमिनार का पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन, श्री विवेक शर्मा (भा.पु.से.) द्वारा पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री अमित सिंह (भा.पु.से.) की उपस्थिति में शुभारंभ किया गया।इस  अवसर पर पुलिस अधीक्षक अ.जा.क. श्री समर वर्मा, उप पुलिस अधीक्षक (अ.जा.क.) जबलपुर श्रीमति सुरेखा परमार, के अलावा जबलपुर जोन के जिलों से आये, उप निरीक्षक, निरीक्षक एवं उप पुलिस अधीक्षक स्तर के 55 अधिकारी कार्यशाला मे उपस्थित थें। पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन श्री विवेक शर्मा (भा.पु.से.) ने अपने उद्बोधन मे कहा कि कार्याशाला का विषय महत्वपूर्ण है, विगत 2 दिवस आपके लिये काफी उपयोगी साबित होंगे। भारतीय दण्ड सिंहता के अलावा सामाजिक परिवेश को दृष्टिगत रखते हुये कानून बनाये गये है, आप सभी को संशोधित अधिनियम का फील्ड मे प्रभावी रूप से क्रियान्वयन करना है, आप सभी इस प्रशिक्षण के माध्यम से कार्य के दौरान आने वाली कठिनाईयो को आपस मे चर्चा कर दूर करें। पुलिस को समाज मे व्यवस्था स्थापित करने के लिये व्यापक अधिकार दिये गये है। आप सभी को विषय के विशेषज्ञों के द्वारा महत्वपूर्ण जानकारियॉ दी जावेंगी। आम नागरिकों की आपसे अत्यधिक अपेक्षायें रहती है। पीडित पक्ष के न्याय दिलाने मे हमारा सकारात्मक प्रयास होना चाहिये। कोई भी इस प्रकार की सूचना जिसमें समाज के कमजोर वर्गो के प्रति अपराध घटित होने की जानकारी प्राप्त होती है, उस पर त्वरित न्याय संगतपूर्ण कार्यवाही अच्छे से सोच विचार कर करें एवं पीडित पक्ष को हर सम्भव मदद करें, इसके लिये आप जब आत्मा से संवेदनशील होगें तभी पीडित को संतुष्टि मिलेगी। एफआईआर लेख करते समय विशेष सावधानी बरतते हुये सभी बातों को समावेश किया जाये, तथा सभी साक्ष्यों को संकलित करते हुये विधि विशेषज्ञों की राय लेकर चालान समय सीमा में पेश किया जाये। चालान पेश करने के बाद फालोअप करते हुये अपराधी को उसके किये की सजा दिलाना हमारा प्रमुख उद्देश्य होना चाहिये । पीडित को राहत प्रकरणो में त्वरित कार्यवाही करते हुये उन्हें राहत राशि दिलायी जाये। आप सभी अपने फील्ड के अनुभवो को भी व्यक्त करते हुये आपस मे विचार विमर्श करें, एवं अपनी शंका का समाधान करें, निःसंदेह इससे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। इस प्रशिक्षण कार्यशाला के माध्यम से आप जो भी सीखें, उसे आप अपने थानों मे अपने अधिकारी/कर्मचारियों के साथ शेयर करें, इससे और भी अधिकारी कर्मचारी लाभान्वित होंगे।पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री अमित सिंह (भा.पु.से.) ने बताया कि इस 2 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में आपको इस कार्यशाला के माध्यम से एस.सी./एस.टी. एक्ट संशोधित अधिनियम 26 जनवरी 2016, अनुसंधान में भैतिक साक्ष्यों का महत्व एवं उसका संकलन, अभियोजन के परिप्रेक्ष्य में अन्वेषण में हुई त्रुटियों का निराकरण, बच्चों एवं किशोर पर घटित अपराध की जानकारी, (पास्को एक्ट ) एवं महिला सशक्तिकरण से सम्बंधित योजनाओं की जानकारी, प्रथम सूचना लेखन, आदि के सम्बंध में विस्तार से जानकारी दी जावेगी। 

कार्यशाला के शुभारंभ के पश्चात श्री संदीप पाण्डे जिला लोक अभियोजन अधिकारी (अ.जा.क) जबलपुर द्वारा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जन जाति (अत्याचार निवारण ) संशोधित अधिनियमों की जानकारी पावर प्वाईट प्रोजेक्टर के माध्यम से दी जा रही है।


सोनू त्रिपाठी रिपोर्टर कलयुग की कलम


Share To:

Post A Comment: