चित्रकूट- जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में 50 लाख से अधिक लागत वाले निर्माण कार्यों,परियोजनाओं की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई।बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में संचालित निर्माण कार्यों एवं विभिन्न प्रकार की परियोजनाओं को शीघ्रता से पूर्ण करायें जिससे इनका लोकार्पण कराया जा सके और यह जन मानस के लिए काम आ सके। उन्होंने जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी को निर्देश दिये कि वह जनपद में कराये गये अच्छे कार्यों की एक बुकलेट तैयार करायें जिसमें रंगीन फोटोग्राफ्स भी लगायें। जो कार्य पूर्ण हो चुके हैं उनकी जांच हेतु एक तकनीकी टीम गठित कर जांच कराकर यह तय किया जाये कि वह गुणवत्ता एवं मानक के अनुरूप निर्मित हुई हैं। यदि जांच में कमी पायी जाय तो संबंधित कार्यदायी संस्था तथा ठेकेदार के खिलाफ कठोर कार्यवाही अमल में लायी जाय। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि निराश्रित पशुओं को पशु आश्रय गृहों में रखा जाय कोई भी पशु सड़क पर न दिखे। पर्यटन विकास हेतु जो निर्माण कार्य हो रहे हैं उनको पूर्ण कराकर हैण्डओवर किया जाय। नये बन रहे हाई स्कूल/इंटरमीडिएट कालेजों में विद्युत विभाग शीघ्र विद्युत संयोजन करायें। ग्रामीण अभियंत्रण सेवा द्वारा जो कार्य कराये जा रहे हैं उनकी प्रगति पर असंतोष प्रकट करते हुए संबंधित अधिकारियों से स्पष्टीकरण मांगने के निर्देश दिये। जिन कार्यों के टेण्डर / कार्यदायी संस्था अभी तक नामित नहीं हुई हैं ऐसे मामलों में समय से विभाग टेण्डर कराकर एजेंसी नामित करते हुए शीघ्र कार्य प्रारम्भ करायें। जिन विभागों के कार्य पूर्ण हो गये है उनकी सूची प्राप्त कर जांच करा ली जाय। लोक निर्माण विभाग को विभिन्न चौराहों पर वाटर कूलर लगाने हेतु धनराशि उपलब्ध करायी गई है उसमें वह तत्काल वाटर कूलर निर्धारित स्थानों पर लगायें। खण्ड विकास अधिकारी कर्वी तथा अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका परिषद कर्वी से कहा कि पूरे परिक्रमा मार्ग को साफ-सुथरा कराकर चमकाएं और जगह-जगह डस्टबिन भी रखवाये जायें ताकि लोग कचरा उसी में डालें,रास्ते में न फेंके। नये हैण्डपम्प जो लगाये गये हैं उनकी गुणवत्ता तथा मानक व निर्धारित स्थान पर लगाये गये है इसकी जांच हेतु जिला विकास अधिकारी को निर्देश दिये। सम्पर्क मार्ग निर्माण हेतु ग्रामीण अभियंत्रण सेवा द्वारा अभी तक टेण्डर प्रक्रिया पूर्ण न करने के कारण इंजीनियर का वेतन रोकने के निर्देश दिये। राजकीय निर्माण निगम को निर्देश दिये कि वह कार्यों को पूर्ण करायें जिससे धनराशि रिवाइज कराने की जरूरत न पड़े। यदि धनराशि पूर्ण रूप से प्राप्त नहीं हुई है तो पत्राचार कर मंगाये।जो बिल्डिंग तथा पेयजल परियोजनाएं तथा अन्य प्रकार की परियोजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं तो उन्हें संबंधित विभाग को हस्तान्तरित करने की कार्यवाही पूर्ण की जाय जिससे उनके रख रखाव की जिम्मेदारी संबंधित विभाग की हो जाय। रोडवेज बस स्टैण्ड का निर्माण कार्य पूरा न होने पर असंतोष प्रकट करते हुए सहायक अभियंता एवं प्रोजेक्ट मैनेजर के खिलाफ कार्यवाही के निर्देश दिये। जिन योजनाओं का पैसा विद्युत विभाग को प्राप्त करा दिया गया है उनका विद्युत संयोजन 31 जुलाई 2019 तक अनिवार्य रूप से करायें। पैक्स पैड के अधिकारी को निर्देश दिये कि वह राजापुर तहसील में कराये जा रहे कार्यों को एक माह के अंदर पूर्ण कराना सुनिश्चित करें। रामघाट सौन्दर्यीकरण एवं रसिन बांध के कार्यों को सिंचाई विभाग शीघ्रता से पूर्ण करें। जल निगम के बरगढ़ पेयजल योजना को पूरी क्षमता के साथ चलाने तथा जल संयोजन किये जाने के निर्देश दिये। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा0 महेन्द्र कुमार,मुख्य चिकितसाधिकारी डा0 राजेन्द्र सिंह,मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 सुधीर सिंह, प्रभागीय वनाधिकारी कैलाश प्रकाश, जिला विकास अधिकारी  आर0के0त्रिपाठी,जिला विद्यालय निरीक्षक बलिराज राम,अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका परिषद कर्वी नरेन्द्र मोहन मिश्रा,जिला अर्थ एवं संख्याधिकारीराजेश कुमार यादव तथा अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण विभाग,सिंचाई,जल निगम,आर.ई.एस.,लघु सिंचाई,पम्प कैनाल तथा पर्यटन विभाग आदि संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

ब्यूरोचीफ विवेक श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार एवं दैनिक वेब न्यूज चैनल
जनपद चित्रकूट
Share To:

Post A Comment: