बाल संरक्षण गृहों का नियमित भ्रमण करें अधिकारी - कलेक्टर

समेकित बाल संरक्षण योजना की बैठक

 Kkkन्यूज कटनी- कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम 2015 के अर्न्तगत जिले में संचालित तीन बाल देखरेख संस्थाओं का समय समय पर नियमित रुप से भ्रमण करने के निर्देश महिला बाल विकास और महिला सशक्तिकरण विभाग के अधिकारियों को दिये हैं। सोमवार को कलेक्टर श्री सिंह ने समेकित बाल संरक्षण योजना की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिये। इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष ममता पटेल, एडिशनल पुलिस अधीक्षक संदीप मिश्रा, जिला कार्यक्रम अधिकारी नयन सिंह, महिला सशक्तिकरण अधिकारी वनश्री कुरवेति, प्रभारी सामाजिक न्याय दीपक सिंह, प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी आर0एस0 पटेल भी उपस्थित थे।जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी ने बताया कि समेकित बाल संरक्षण योजना के अन्तर्गत जिले में 3 संस्थायें आसरा बाल गृह, आशा किरण नवोदय सोसायटी और लिटिल स्टार फाउण्डेशन संचालित हैं। इन संस्थाओं द्वारा 270 बालक-बालिकाओं का पारिवारिक पुर्नवास एवं गृह वापसी कराया गया है। इन संस्थाओं से 22 बालक-बालिका दत्तक ग्रहण किये गये हैं। पुर्नवासित बालकों में 124 बालक और 75 बालिकायें शामिल हैं। किशोर न्याय अधिनियम 2015 की धारा 54 के नवीन निर्देशानुसार 5 सदस्यीय समिति में मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ और राजपत्रित स्तर का विशेष पुलिस ईकाई से पुलिस अधिकारी शामिल कर समिति का पुर्नगठन किया जा रहा है। किशोर न्याय अधिनियम के प्रावधान अनुसार बाल देख-रेख संस्था में प्रवेश के 24 घंटे के भीतर बालक की चिकित्सा जांच किया जाना अनिवार्य किया गया है।

*सोनू त्रिपाठी ग्रामीण रिपोर्टर कलयुग की कलम कटनी*
Share To:

Post A Comment: