पाली(हरदोई) मुफलिसी में जीवन यापन कर रहे छत विहीन लोगों के लिए शासन की अति महत्वाकांक्षी आवास योजना प्रशासन की लचर व्यवस्था के आगे दम तोड़ती नजर आ रहे हैं

नगरीय क्षेत्रों से लेकर ग्रामीण अंचलों तक समाज के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री आवास योजना की व्यवस्था की गई है लेकिन यहां पर चयनकर्ताओ द्वारा शत-प्रतिशत पात्रों को नजरअंदाज करते हुए अपात्रों के नाम कालोनियों का आवंटन कर सरकार की मंशा पर खुलेआम पानी फेरा जा रहा है बताया जा रहा है कि ऊपर से नीचे तक सांठगांठ  या खेल चल रहा है और जनता के हितों का भार अपने कंधों पर लिए बैठे जनप्रतिनिधि खामोश बैठे नजर आ रहे हैं यहां पर सवाजपुर तहसील की एकमात्र नगर पंचायत पाली की बात करें तो मोहल्ला बिरहाना के नेकराम सबसे ब मेवाराम शर्मा खुले आसमान के नीचे परिवार के साथ जीवन यापन कर रहे हैं इनके पास हटे और घास फूस की झोपड़ी बनाने तक के पैसे नहीं है जो धूप और बरसात से बचा जा सके अगर जिला प्रशासन किसी सक्षम अधिकारी से जांच कराएं इस खेल में लिख लोगों का काला चिट्ठा सामने आ जाएगा नगर में ऐसे कितने लोग बेकार है यह बताना संभव नहीं वहीं विकाक खंड भरखनी की ग्रमपंचायत सेमझाला के गाँव गजियापुर निवासी रामकली पत्नी रामधुनी ने मुख्यमंत्री को एक शिकायती पत्र भेजकर प्रधानमंत्री आवास दिलाए जाने की मांग की पत्र में कहा गया है कि किसी तरह पन्नी तंत्र घास फूस की झोपड़ी के नीचे अपने परिवार के साथ दिया दर्शन करने के लिए मजबूर है जो काफी जर्जर खस्ताहाल स्थिति में है शिकायत पत्र में कहा गया है कि उसके पास कोई खेत भी नहीं है वह पात्रता की  पात्रता किस श्रेणी में होने के बावजूद अभी तक आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया यहां पर निचले स्तर पर खेल खेला जा रहा हूं शिकायती पत्र में कहा गया है कि अगर ठीक से जांच प्रकाशित कराई जाए तो सारा की कथा बात बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने बताया की लिस्ट  शासन को भेज दी गई है कृति होते ही पात्रों को लाभ दिया जाएगा
Share To:

Post A Comment: