====================
रीवा ..
 जनता दल सेक्यूलर के प्रदेशाध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने ईवीएम को लोकतंत्र के लिए खतरा  बताते कहा कि ,आज देश में ईवीएम हटाने लोकतंत्र बचाने राष्ट्रीय जन आंदोलन की आवश्यकता है  इसी तारतम्य में समाजवादियों की धरती रीवा से शंखनाद करने सर्वदलीय बैठक का आयोजन आज दिनांक 27 जुलाई  को कमिश्नरी कार्यालय  के पास  ऋतुराज पार्क में दोपहर 1:00 बजे से 3:00 बजे  तक किया गया है उक्त बैठक में 9 अगस्त क्रांति दिवस को बड़ा आंदोलन करने की रूपरेखा तैयार की जाएगीl श्री सिंह ने आगे कहा कि  हाल ही के लोकसभा चुनाव परिणाम पूरे देश को सकते में डाल दिए   हैं ,महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश सहित कई प्रदेशों कि ईवीएम डिटेल में व्यापक अंतर आया बीजेपी एवं सोशल मीडिया की काउंटिंग के पूर्व जो रिपोर्ट आई चुनाव नतीजों की विश्वसनीयता पर सवाल खड़ा हो गया है, चुनाव नतीजों के पूर्व देश की मीडिया भारतीय जनता पार्टी को 200 के अंदर ही बता रही थी, देश  की जनता को ऐसे नतीजों पर भरोसा नहीं था lबीजेपी के बहुमत की कोई संभावना नहीं थी देखा जाए तो चुनाव आयोग का रवैया बेहद गैर जिम्मेदाराना रहा और शुरू से ही संदेहास्पद रहा, चुनाव आयोग हर जगह सरकार के साथ खड़ा दिखा देश की सर्वोच्च संस्थाओं की तरह मोदी ने चुनाव आयोग को शिकंजे में लेकर जो चाहा वह किया यह जनता के द्वारा चुनी लोकतांत्रिक सरकार नहीं है यह  ईवीएम की सरकार है, हम इस सरकार को लोकतांत्रिक नहीं मानते दोबारा बैलेट से चुनाव होने चाहिए आज जो भी बड़े लोकतांत्रिक  देश है उन्होंने ईवीएम मशीन को खारिज कर दिया है, ईवीएम लोकतंत्र के लिए व्यापक खतरा है, ईवीएम को हटाना हर नागरिक का परम कर्तव्य है ,आपका वोट आपके पसंदीदा नेता एवं पार्टी को ना मिले तो इसका व्यापक विरोध आवश्यक है ,   बीजेपी द्वारा ईवीएम का बचाव करना यह सिद्ध करता है   की ईवीएम हैक करने से आज बीजेपी बहुमत में है यदि ऐसा नहीं है तो बीजेपी देश के अन्य राजनीतिक दलों, बुद्धिजीवियों, आम जनता की बातों का सम्मान करते हुए बैलेट पेपर से चुनाव कराने की बात का  समर्थन करें l बैठक में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ,मीसा बंदियों ,बीजेपी को छोड़ सभी राजनीतिक दलों, जन संगठनों ,सामाजिक संगठनों, बुद्धिजीवियों से बैठक में पहुंचने अपील की गई है
                  भवदीय
       शिव सिंह एडवोकेट
 प्रदेशाध्यक्ष जेडीएस (एम .पी)
            9893229788
Share To:

Post A Comment: