जिस मकान को लेकर आकाश विजयवर्गीय ने की थी अफसरों की पिटाई, उसे नगर निगम टीम ने गिराया

26 जून को भी मकान गिराने पहुंची थी टीम, तब आकाश ने अफसरों की बल्ले से पिटाई की थी
कोर्ट के आदेश पर नगर निगम के अमले ने जर्जर मकान को ढहाने की कार्रवाई पूरी कीइंदौर. जिस मकान को लेकर भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र विधायक आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के अफसरों की बैट से पिटाई की थी, उसे शुक्रवार को गिरा दिया गया।

कोर्ट के आदेश पर सुबह 10 बजे उपायुक्त महेंद्र चौहान के साथ पहुंची टीम ने गंजी कंपाउंड स्थित जर्जर मकान को ढहाने की कार्रवाई पूरी की। निगम ने कार्रवाई के लिए 11 बजे का समय तय किया था, लेकिन टीम इसके एक घंटे पहले ही यहां पहुंच गई। गुरुवार को ही इस मकान में रहने वाले किराएदार से मकान खाली करा दिया गया था। किराएदार को भूरी टेकरी में बने शहरी गरीबों के मकान में अस्थायी रूप से एक फ्लैट उपलब्ध कराया गया है।

किराएदार परिवार को फ्लैट में शिफ्ट किया
निगम जोन-तीन के बिल्डिंग ऑफिसर (बीओ) असित खरे ने बताया कि किराएदार परिवार को तीन महीने के लिए अस्थायी रूप से फ्लैट रहने के लिए दिया गया है। इसका सूचना पत्र देने के लिए गुरुवार को काफी देर तक निगमकर्मी किराएदार भेरूलाल श्रीवंश को तलाशते रहे, लेकिन जब वे नहीं मिले तो राजस्व विभाग से उनके बेटे के घर की जानकारी निकलवाई। निगम रिकॉर्ड से पता चला कि भेरूलाल का बेटा स्कीम-78 स्थित पक्के मकान में रहता है। वहां परिजन को नोटिस देकर मकान खाली करने और भूरी टेकरी में बना फ्लैट आवंटित करने संबंधी जानकारी दी गई। नोटिस किराएदार की बेटी को सौंपा गया। इसकी एक कॉपी गंजी कंपाउंड स्थित जर्जर मकान पर भी चस्पा की गई।

आकाश ने किया था मकान तोड़ने का विरोध
26 जून को निगम अधिकारी धीरेंद्र बायस टीम के साथ इसी मकान को ढहाने पहुंचे थे। विधायक आकाश वियजवर्गीय ने इसका विरोध किया था। उन्होंने अधिकारी के साथ बैट से मारपीट करने पर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने आकाश को 11 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में इंदौर जेल भेजा था। इसके अगले दिन उन्होंने सत्र न्यायालय में जमानत के लिए अर्जी लगाई थी। यहां से केस एससी/एसटी कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया गया। गुरुवार को एससी/एसटी कोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी थी। इसके बाद आकाश ने भोपाल कोर्ट में याचिका दाखिल की। भोपाल से उन्हें जमानत मिली और 30 जून को उन्हें इंदौर जेल से रिहा किया गया।
Share To:

Post A Comment: