जहां पूरे प्रदेश के अंदर शिक्षकों की मार से फेल हो रहे बच्चे अच्छे शिक्षक ना होने के अभाव में स्कूलों की शिक्षा  विवस्था  डगमग नया सी हो गई है।

 जहां बच्चों को खाली स्कूलों में बंद कर कर रखा जा रहा है।

 शिक्षकों के अभाव में बच्चों की शिक्षा प्रभावित हो रही है।

 नौनिहालों का जीवन खराब हो रहा है।
 मां बाप को लग रहा है बच्चे स्कूल जा रहे हैं शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं।
 बड़े होकर पढ़ लिख कर हमारी मंशा को पूर्ण करेंगे।
 प्रतिभाशाली शिक्षा प्राप्त करके अपने गांव छेत्र जिले प्रदेश का नाम रोशन करेंगे ।
लेकिन स्कूलों में बदहाल शिक्षा व्यवस्था से परेशान हो रहे बच्चे  कुछ और ही बयां कर रहे हैं

 वहीं अतिथि शिक्षक अपना बहुमूल्य समय देकर स्कूली शिक्षा व्यवस्था को बनाने के लिए अपना समय दिए आज उन्हीं अतिथि शिक्षकों के साथ सरकारें दुर्व्यवहार कर रही हैं

  मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने अतिथि शिक्षकों के साथ किया है बड़ा धोखा जो अतिथि शिक्षक 4 साल 5 साल 11 साल स्कूलों में अपनी सेवाएं दिए बैठे हैं। 

किसी कारण पिछले वर्ष उन्होंने सेवाएं नहीं दी हैं।

 उन्हें स्कोर कार्ड में कोई अंक नहीं दिया गया वही जो अतिथि शिक्षक पिछले ही वर्ष अपनी सेवाएं दिए हैं उन्हें 25 अंक दिए गए हैं ।
एक अनपढ़ व्यक्ति भी आंकलन कर सकता है की सरकार द्वारा कितना गलत किया गया है।
 ऐसे में प्रदेश की सरकार को सोचना चाहिए और स्कोरकार्ड को रद्द कर पुनः स्कोरकार्ड जनरेट करना चाहिए जिससे पुरानी सेवाएं देते आ रहे अतिथि शिक्षकों को इसका लाभ मिल सके।

लेखक 
अब्दुल क़ादिर खान 
मोब,9753687489
Share To:

Post A Comment: