अमेठी पुलिस व जिला प्रशासन को पीड़ित राम मूरत यादव का घर गिर जाने का इंतजार है या उसकी मदद होगी


ताजा मामला अमेठी के संग्रामपुर थाना क्षेत्र के सकरमाना पट्टी धोएं गांव का है। गांव के दो परिवार राम मूरत यादव व स्वामी नाथ यादव का मकान आमने सामने है। राम मूरत यादव ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरहंगई के बल पर आये दिन स्वामी नाथ यादव अपने रसूख व पकड़ के बल पर परेशान करता रहता है। थाना संग्रामपुर व चौकी टीकरमाफी इंचार्ज से स्वामी नाथ की कारगुजारियों से आजिज आकर शिकायत किया लेकिन पुलिस टाल देती है व रसूख के चलते पीड़ित को ही डॉट डपट कर भगा दिया जाता है।

पीड़ित राम मूरत यादव ने बताया कि बारिश के दौरान विपक्षी ने पानी निकलने के रास्ते को जबरन बन्द कर दिया जिससे पूरे घर के अंदर पानी भर गया। मकान के आगे का छप्पर गिर गया। मामले की जानकारी चौकी टीकरमाफी व डायल 100 को दिया। पुलिस मौके पर आई तो विपक्षी के द्वारा पानी के रास्ते को न खुलवाकर मुझे धमका कर चले गए।

मामले को उलझाने में क्षेत्रीय लेखपाल व कानूनगो की भी भूमिका  संदिग्ध है। लेखपाल ने भ्रष्टाचार करते हुए पीड़ित के ही दरवाजे व सहन की जमीन को विपक्षी को 67 ए का लाभ देकर और परेशान कर दिया।
पीड़ित ने इस संबंध में उच्चाधिकारियों का दरवाजा खटखटाया लेकिन रसूख व सरहंगई के बल पर हर जगह न्याय पाने में रोड़ा अटकाता रहता है।

क्या परिवार में किसी अनहोनी घटना का इंतजार है। क्या प्रशासन की कुम्भकर्णी नींद तब खुलेगी जब पानी से डूबे घर कर गिरने से उसके परिजन दब जाएंगे।

रिपोर्ट अशोक कुमार पाण्डेय पत्रकार अमेठी



Share To:

Post A Comment: