किसान दिवस मे जिलाधिकारी ने सुनी किसानों की समस्यायें

KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
        प्रयागराज
विकास कुमार पटेल

किसान भाईयों की समस्याओं को प्राथमिकता के तौर पर ले अधिकारी-जिलाधिकारी, प्रयागराज।
17 जुलाई 2019 प्रयागराज।
जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी की अध्यक्षता में संगम सभागार में किसान दिवस के दिन किसानों की समस्यायें को सुना, जिसमें उप निदेशक कृषि-विनोद कुमार शर्मा सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारीगण मौजूद थे। जिलाधिकारी ने किसानों की समस्याओं को गम्भीरता से लेते हुए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि किसान भाईयों कि जो विद्युत, मुआवजा, पानी इत्यादि की समस्यायें हो, उसको प्राथमिकता के तौर पर निस्तारित करे। इसी क्रम में जिलाधिकारी ने मेजा के विद्युत विभाग के अभियन्ता से स्पष्टीकरण तलब किया।
उर्वरकों के स्टाॅक का औचक सत्यापन गठित समिति द्वारा किया गया
टीम द्वारा जनपद के कुल 105 उर्वरक के प्रतिष्ठानों विक्रय केन्द्रों की आकस्मिक की गयी
जांच में संदिग्ध उर्वरक के 48 नमूनें किये गये ग्रहीत, अनियमितता पाये जाने पर 08 उर्वरक विक्रेताओं को चेतावनी नोटिस जारी की गयी तथा 01 उर्वरक विक्रेता का लाइसेंस किया गया निलम्बित

जिला कृषि अधिकारी, प्रयागराज डाॅ0 अश्वनी कुमार सिंह ने बताया है कि प्रमुख सचिव, कृषि, उ0प्र0 शासन के परिपालन में खरीफ 2019 में जनपद के कृषकों को गुणवत्ता युक्त एवं निर्धारित दर पर उर्वरक उपलब्ध कराने के उद्देश्य से जनपद में स्थित उर्वरक की शीर्ष संस्थाओं, साधन सहकारी समितियों, निजी क्षेत्र के उर्वरक विनिर्माताओं, थोक स्टाकिस्ट एवं फुटकर विक्रेताओं के प्रतिष्ठानों गोदामों का स्टाक पंजिका के आधार पर स्टाक का सत्यापन जांच हेतु निरीक्षकों की गठित टीम द्वारा दिनांक 17 जुलाई, 2019 को एक साथ आकस्मिक छापा डालकर सघन जांच की कार्यवाही की गयी। टीम द्वारा जनपद के कुल 105 उर्वरक के प्रतिष्ठानों विक्रय केन्द्रों की आकस्मिक जांच की गयी, जिसमें संदिग्ध उर्वरक के 48 नमूनें ग्रहीत किये गये। छापे के दौरान अनियमितता पाये जाने पर 08 उर्वरका विक्रेताओं को चेतावनी नोटिस जारी की गयी तथा 01 उर्वरक विक्रेता का लाइसेंस निलम्बित किया गया। शासन के निर्देशानुसार जांच की कार्यवाही निरन्तर की जायेगी, जांच के समय किसी भी प्रकार की अनियमितता, कालाबाजारी, मिलावट अथवा निर्धारित मूल्य से अधिक दर पर उर्वरक की ब्रिकी किये जाते हुये पाये जाने पर संबंधित के विरूद्ध उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम 3/7 के तहत विधिक कार्यवाही की जायेगी।
जिला स्वच्छता समिति की बैठक जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न
स्वच्छ महोत्सव एवं स्वच्छ दर्पण कार्यक्रम का आयोजन कर स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्तर्गत उत्कृष्ट कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों, ग्रामीणजन, अधिकारियों कर्मचारियों को को किया जायेगा सम्मानित

जिला पंचायतीराज अधिकारी  रेनू श्रीवास्तव ने बताया कि जिलाधिकारी महोदय की अध्यक्षता में आज दिनांक 17.07.2019 को कलेक्ट्रेट परिसर में स्थिति संगम सभागार में जिला स्वच्छता समिति की बैठक आयोजित की गयी जिसमें प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, परियोजना निदेशक, डी0आर0डी0ए0  जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला सूचना अधिकारी एवं स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के समस्त स्टाफ द्वारा प्रतिभाग किया गया बैठक का संचालन जिला पंचायतराज अधिकारी  रेनू श्रीवास्तव द्वारा किया गया। बैठक को सम्बोधित करते हुये जिला पंचायतराज अधिकारी द्वारा बताया गया कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अन्तर्गत स्वच्छता के प्रति समुदाय व्यवहार परिवर्तन  एवं शौचालय निर्माण में उत्कृष्ट कार्य किये जाने वाले ग्राम प्रधानों, ग्रामीणजन, अधिकारियों कर्मचारियों को जिलाधिकारी महोदय की अध्यक्षता में स्वच्छ महोत्सव एवं स्वच्छ दर्पण कार्यक्रम का आयोजन कर सम्मानित किये जाने के साथ ही उक्त आयोजन में शौचालय पर सर्वश्रेष्ठ पेन्टिंग का प्रदर्शन किया जायेगा।
उक्त बैठक में जिलाधिकारी महोदय द्वारा ओ0डी0एफ0 प्लस एवं एस0एल0डब्लू0एम0 गतिशीलता को स्थायित्व प्रदान करने, अन्तर वैयक्तित्व आई0ई0सी0 गतिविधियों को संचालित किये जाने निगरानी समितियों की तैनाती एवं गतिशील बनाने, अक्रियाशील त्रुटिपूर्ण निर्मित शौचालय को ठीक कराकर क्रियशाील कराने, ग्राम पंचायतों को पाॅलीथीन के प्रयोग पर रोक लगाने एवं ग्राम पंचायतो को पाॅलीथीन मुक्त घोषित कराने तथा ग्रामीण क्षेत्रों में मल प्रबन्धन के सिद्वान्त एवं तकनीकी सम्बन्धित कार्यो पर तेजी लाने एवं प्रत्येक विकास खण्ड में एक माॅडल ग्राम पंचायत अविलम्ब तैयार किये जाने हेतु निर्देशित किया गया।


Share To:

Post A Comment: