केले के उत्पादन व मक्के के खेतों में पहुंचकर लिया जायजा

Kkkन्यूज कटनी- जिले में चल रहीं कृषि व उद्यानिकी क्षेत्र में विभिन्न गतिविधियों का जायजा शुक्रवार को कलेक्टर शशिभूषण_सिंह ने विभिन्न ग्रामों में पहुंचकर लिया। इस दौरान उन्होने कृषि व उद्यानिकी विभाग के सहयोग व मार्गदर्शन में की जा रही केले की फार्मिंग, गुलाब उत्पादन, स्वीट कॉन सहित खेतों की उन्नत तकनीक से ली जा रही अनार की फसलों का कृषकों के खेतों तक पहुंचकर निरीक्षण किया। उन्होने कहा कि जिले में केले के बेहतर उत्पादन की संभावना व जलवायु की उपयुक्तता का लाभ उठाये उद्यानिकी विभाग और इस दिशा में अन्य कृषकों को भी प्रेरित कर केले के उत्पादन का रकबा बढ़ाने की दिशा में कार्य करें। इस अवसर पर उप संचालक किसान कल्याण ए0के0 राठौर, जिला परियोजना अधिकारी उद्यान वीरेन्द्र सिंह सहित वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी आर0के0 चतुर्वेदी व अन्य संबंधित अधिकारी व कर्मचारी भी मौजूद रहे। ग्रामीण क्षेत्रों में उद्यानिकी व कृषि क्षेत्र में किये जा रहे विभिन्न प्रयासों का जायजा लेने कलेक्टर श्री सिंह सबसे पहले कटनी जनपद अन्तर्गत ग्राम भनपुरा-2 पहुंचे। यहां पर उन्होने कृषक संजीव नैयर व सुनीता नैयर द्वारा विगत कई वर्षों से सफलता पूर्वक की जा रही पॉली हाउस में गुलाब की खेती के संबंध में जानकारी ली। जिसके बाद इस वर्ष से 12 एकड़ क्षेत्र में प्रारंभ हुई केले की फार्मिंग व उसके उत्पादन के विषय में भी जाना। परियोजना अधिकारी उद्यान वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि गत वर्ष से प्रारंभ हुई केले की फार्मिंग में बेहतर उत्पादन प्राप्त हुआ है। जिले में केले के लिये उपयुक्त वातावरण है, जिससे अन्य किसानों को भी इस ओर केले के उत्पादन की जानकारी देकर इसके लिये प्रेरित किया जा रहा है। कलेक्टर ने कहा कि केले के उत्पादन क्षेत्र में विस्तार कर अन्य कृषकों को इस ओर अग्रसर करें। साथ ही उन्होने भनपुरा-2 में ही उन्नत तकनीक से 20 एकड़ के रकबे में तैयार किये गये अनार के बगीचे का भी निरीक्षण कर उत्पादन व अन्य तकनीकी पहलुओं के संबंध में चर्चा कर जानकारी प्राप्त की।कलेक्टर श्री सिंह ने अपने विजिट के दौरान स्वीट कॉर्न के भरपूर उत्पादन के लिये अपनी पहचान बना चुके स्लीमनाबाद के तेवरी क्षेत्र में पहुंचकर किसानों से चर्चा की। जिसके बाद कृषक पुरुषोत्तम सिंह के खेतों में पहुंचकर उनके द्वारा की लगभग 17 एकड़ के क्षेत्र में जा रही स्वीट कॉर्न, भिण्डी सहित अन्य फसलों की खेती के संबंध में जानकारी ली। चर्चा के दौरान उप संचालक कृषि ने बताया कि पूर्व में केवल तेवरी में ही स्वीट कॉर्न की खेती की जाती थी। लेकिन वर्तमान मे तेवरी सहित 12 ग्रामों के कृषकों द्वारा स्वीट कॉर्न व हाईब्रिड मक्के का उत्पादन किया जा रहा है। जिसमें 100 एकड़ रकबे में स्वीट कॉर्न व लगभग 2 हजार एकड़ में कृषक हाईब्रिड मक्के की बोनी की गई है। जिससे इस क्षेत्र में जहां हाईब्रिड व स्वीट कॉर्न के उत्पादन में बहुत ज्यादा बढ़ोतरी हुई है । और इसके साथ ही क्षेत्र के कृषकों की आय में भी इजाफा हुआ है। स्वीट कॉर्न व हाईब्रिड मक्के के बहुतायत में हो रहे उत्पादन को देखते हुये कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि स्वीट कॉर्न के फूड प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना पर भी संबंधित विभागीय अधिकारी कार्ययोजना बनायें। जिससे फसल के दौरान उत्पादन को प्रोसेस करके संरक्षित किया जा सके और बेहतर मार्केट में इसे अच्छे दामों पर विक्रय के लिये भी तैयार किया जा सके। साथ ही उन्होने उद्यानिकी क्षेत्र में कृषि कार्य कर रहे कृषकों का डेटाबेस तैयार करने के निर्देश संबंधित विभागीय अधिकारियों को दिये। उन्होने कहा कि उद्यानिकी व जैविक खेती से उत्पादन की जा रही फसलों, फलों, सब्जियों के कृषकों की जानकारी एकत्र करें। जिसके बाद उनके जैविक उत्पाद का बेहतर दाम उन्हें उपलब्ध कराने की दिशा में भी प्रयास किये जायें। विजिट के दौरान कलेक्टर श्री सिंह ने उद्यानिकी व कृषि क्षेत्र में किसानों को दी जाने वाली विभिन्न वित्तीय व अनुदान तथा तकनीकी मार्गदर्शन की जानकारी ली। उन्होने कहा कि शासन द्वारा दी जा रही सहायता व अनुदान कृषकों को पात्रता अनुसार समय पर मिले, इस संबंध में विभागीय अमला आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करे।

सोनू त्रिपाठी ग्रामीण रिपोर्टर कलयुग की कलम


Share To:

Post A Comment: