गत दिवस जिलाधिकारी ने स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक की आहूत 

चित्रकूट-जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने कहा कि गौशाला में मनरेगा से व्यक्तिगत गौशाला व सामुदायिक गौशाला बनने हैं। उन्होंने सभी खंड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि कार्य को तत्काल पूर्ण कराया जाए सामुदायिक गौशाला हर न्याय पंचायत स्तर पर एक गौशाला का निर्माण कराया जाना है जो कार्य पूर्ण नहीं हुए हैं उसे पूर्ण कराएं इसमें किसी प्रकार की सोचने की जरूरत नहीं है कार्य को किसी भी दशा में पूर्ण कराया जाए। यह कार्य करना बहुत ही आवश्यक है इतने महत्वपूर्ण कार्य में जो मन लगाकर कार्य नहीं करेगा सख्त कार्रवाई की जाएगी और जो कार्य शेष है उसे एक सप्ताह में पूर्ण कराया जाए। गौशाला को ऐसी जगह बनाया जाए जहां पर पानी की व्यवस्था हो। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जिन जिन कार्यक्रम में जनपद में स्थान नीचे आएगा तो संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मुख्यालय में बैठकर कुर्सी नहीं तोड़ना है मैदान में जाकर कार्य करना है। उन्होंने ग्राम पंचायत अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी गौशाला एक सप्ताह में चालू हो जाना चाहिए और सभी सुविधाएं रहना चाहिए जो प्रधान कार्य करवाने में आनाकानी करे उसके खिलाफ प्राथिमिकी दर्ज कराई जाए। उन्होंने कहा कि जो गरीब आदमी जानवर पालेगा उसे 30 रुपये प्रति जानवर के हिसाब से पैसा दिया जाएगा गांव के जानवर गांव में ही रहना चाहिए । खंड विकास अधिकारी गांववार मानिटरिंग करें कि कितना भूसा किसके पास है और कितना दान में मिल रहा है इसमें सभी का भला होगा यह पुण्य का कार्य है। उन्होंने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी से कहा कि जानकारी ले की कितनी गौशालाओं में कितना भूसा है कहीं भी भूसा चारा की समस्या से जानवर नहीं मारना चाहिए। नहीं तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी । उन्होंने कहा कि जो जो कार्य करा रहे हैं उसकी रसीद होना चाहिए और कितना कार्य हुआ है उसकी पूरी सही निर्धारित प्रारूप रिपोर्ट बना कर दी जाए। जिस कार्य में प्रगति सही नहीं पाई जाएगी तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी उन्होंने कहा कि सड़क पर गाय नहीं घूमना चाहिए उन्हें गौशाला में रखा जाये और पालतू जानवरों को जो छोड़ रहे हैं उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई जाए और भारी जुर्माना लगाया जाए। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018-19 के जो आवाज पूर्ण नहीं है संबंधित अधिकारी देखें कि कितनी धनराशि जा चुकी है और उनकी छत पड़ जानी चाहिए जो लाभार्थी आवास नहीं बनाया है और धनराशि किसी अन्य में प्रयोग कर लिया है उसके यहां जाकर संबंधित सचिव, खंड विकास अधिकारी बनवाने के लिए समझाएं नहीं बनाए तो उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराएं। उन्होंने अधिशासी अभियंता विद्युत को निर्देश दिए कि विद्युत की समस्या नहीं होनी चाहिए और फोन नहीं उठाने की शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने नोडल अधिकारियों द्वारा शौचालय के अंतर्गत गांव में कितना कार्य हो गया है और कितने कार्य शेष है की जानकारी जिला पंचायत राज अधिकारी से ली। उन्होंने मंडल स्तर व जनपद स्तर से जितने स्वीकृत गांव में सभी में काम होना है जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिये कि जिन जिन सचिव द्वारा कार्य सही नहीं किया जा रहा है उनका जवाब तलब किया जाए। और यह कार्य एक हफ्ते में कार्य नहीं हुआ तो संबंधित खंड विकास अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी पंचायत व सचिव जिम्मेदार होंगे। उन्होंने प्रभागीय वना अधिकारी से कहा कि 9 अगस्त को कितने पेड़ लगने हैं और कहां कहां अधिकारी जाएंगे, , गड्ढे कितने खोद दिए गए हैं कि नहीं और स्थान का नाम की सूची अभी तैयार कर लें और किस अधिकारी के उपस्थित में किस स्थल पर कितने पेड़ लगेंगे की सूची उपलब्ध कराएं हवा में काम नहीं किया जाए जमीनी स्तर में काम करना होगा । जिन जिन अधिकारियों की ड्यूटी लगी है वह भी पूरी जानकारी देंगे। जल शक्ति अभियान में जो गांववार कार्यक्रम बने हैं वहां जिला स्तरीय अधिकारी जाकर देखें और कार्यक्रम कराएं सचिव देखे जब कोई अधिकारी आए उसे जो कार्य हुआ है दिखाया जाए। जल शक्ति अभियान को प्लान बनाकर कार्य किया जाए। रूफटॉप हार्वेस्टिंग सिस्टम का कार्य किन विभागों को करना है वह कार्य जल्द से जल्द पूर्ण कर लिया जाए। 9 जुलाई 2019 को जितने भी तालाबों में खांई, बॉर्डर बना रखे हैं वहां भी सभी जगह पर पेड़ लगेंगे और जहां जहां पर लग चुके हैं उनकी फीडिंग कराई जाए रूफटॉप हार्वेस्टिंग सिस्टम सभी सरकारी भवनों में बनने हैं और जहां नहीं बने हैं वह अगले 15 दिन में सभी पूर्ण कार्य हो जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि आई जी आर एस के तहत जिसकी शिकायत पेडिंग है उसका निस्तारण 31 जुलाई 2019 तक करें और एक भी डिफाल्टर नहीं रहना चाहिएमुख्य विकास अधिकारी डॉ महेंद्र कुमार ने कहा की वर्ष 2018-19 ने जिन ग्राम पंचायतों में जहां जहां पर पेड़ लगाए गए हैं तो उसकी जिओ टैगिंग की जानकारी ली जिसमें मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, सहकारिता, सिंचाई विभाग, बिजली विभाग, श्रम विभाग, परिवहन, उद्यान, जिला कार्यक्रम अधिकारी, नगर विकास, आदि विभागों की जिओ टैगिंग ना पाए जाने पर 31 जुलाई 2019 तक जिओ टैगिंग कराने के निर्देश दिए उन्होंने कहा कि रूबल मिशन के तहत जो कार्य हुए हैं सत्यापन अधिकारी पूरा स्टीमेट बनाकर दिखाएं और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि स्मार्ट क्लास में क्या-क्या काम हुए हैं उसकी पूरी लिस्ट उपलब्ध कराएंइस अवसर पर अपर जिलाधिकारी जी पी सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजेंद्र सिंह, प्रभागीय वन अधिकारी कैलाश प्रकाश, उपजिलाधिकारी कर्वी  इंदु प्रकाश, मऊ रमेश यादव, मानिकपुर संगम लाल, परियोजना निदेशक  अनिल कुमार मिश्र, जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, डीसी मनरेगा, जिला कृषि अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा, अधिकारी जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला दिव्यांगजन अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी सहित संबंधित जिला स्तरीय अधिकारी व पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।



ब्यूरोचीफ* विवेक श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं दैनिक वेब न्यूज चैनल
*जनपद* चित्रकूट
Share To:

Post A Comment: