KKK न्यूज़ रिपोर्टर
          नैनी
     सुभाष चंद्र


 प्रयागराज, आषाढ़ पूर्णिमा, 16 जुलाई 2019। प्रयागराज के नैनी स्थित तुलसी पार्क में परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी की आयोजित एक विशेष बैठक में इसके प्रबन्धक आर0 के0 पाण्डेय एडवोकेट ने अपने उद्बोधन में लोगों से अपने गुरुदेव को सम्मान देने के आग्रह के साथ ही गुरुदेव से भी अपनी गुरुता बनाये रखने की अपील की है।
    जानकारी के अनुसार परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी की प्रयागराज के नैनी स्थित तुलसी पार्क में आयोजित विशेष बैठक में शहर दक्षिणी विधानसभा के वृद्ध, विधवा, तलाकशुदा व बेसहारा गरीब लोगों को सरकारी सुविधाएं दिलाने के प्रयास पर चर्चा के साथ ही आज के प्रासंगिक गुरु पूर्णिमा आषाढ़ पूर्णिमा पर गुरु पूजन व गुरु दक्षिणा कार्यक्रम पर चर्चा भी हुई। इस अवसर पर अपने उद्बोधन में सोसाइटी के प्रबन्धक आर0के0 पाण्डेय एडवोकेट ने बताया कि आदिकाल से ही गुरु-शिष्य परम्परा में गुरु पूर्णिमा व गुरुदेव के सम्मान में गुरु दक्षिणा का कार्यक्रम शिष्यों द्वारा मनाया जाता रहा है व गुरु-शिष्य के आदर्श स्वरूप वशिष्ठ-राम, संदीपन-कृष्ण, द्रोण-पांडव व चाणक्य-चन्द्रगुप्त आदि का उदाहरण हमारे सामने रहा है।  पाण्डेय ने यह भी बताया कि पहले एकल गुरु व एक शिक्षा व एक दीक्षा की परंपरा थी परंतु आजकल परम्परागत व आध्यात्मिक गुरुओं की बाढ़ सी आ गई है एवं विगत कुछ वर्षों में कुछ तथाकथित स्वघोषित गुरु आशाराम, राम कृपाल व राम रहीम जैसे लोगों ने इस नाम को कलुषित किया है जिससे गुरु परम्परा पर विश्वास कमजोर हो रहा है अतएव आज के समय मे समाज के मान्य व स्थापित गुरुदेव की भी जिम्मेदारी बढ़ी है व अब तो स्वयं गुरुदेव को भी अपनी गुरुता प्रमाणिक तौर पर स्थापित करते हुए समाज व शिष्यों के बीच मे गुरुदेव जैसे महान शब्द की महानता को स्थापित करना होगा तभी शिष्यों में अपने गुरुदेव के प्रति पूर्ववत सर्वकालिक सम्मान का भाव सुदृढ़ हो सकेगा।


Share To:

Post A Comment: