KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
       प्रयागराज
विकास कुमार पटेल

मुख्य विकास अधिकारी ने बैंक मैनजरों एवं प्रशासनिक अधिकारियों के साथ किसानो के चल ही योजनाओं की संगम सभागार में की समीक्षा 

किसान सम्मान निघि योजना से किसानो को लाभाविन्त करते हुए युद्धस्तर पर किसानों का डाटा किया जायेगा दूरूस्त 

कल लगभग डेढ लाख डाटा को लेखपाल सम्बन्धित बैंक मैनेजर से सम्पर्क कर डाटा को करेंगे सही 

किसानों को कैम्प लगाकर किसान क्रेडिट कार्ड दिये जायें

02 जुलाई 2019 प्रयागराज। 

जिलाधिकारी प्रयागराज के निर्देश पर मुख्य विकास अधिकारी श्री अरविन्द सिंह ने किसान सम्मान निघि योजना की समीक्षा संगम सभागार में बैंक मैनेजरों तथा विभागीय अधिकारियों के साथ की। उन्होने  किसान सम्मान निघि योजना के अन्तर्गत जनपद प्रयागराज के किसानों को उनके खातों में उक्त योजना की धनराशि हस्तारण लम्बित होने के वजहों पर उपस्थिति अधिकारियों एवं बैंक मैनेजरों से वार्ता की गयी। लगभग डेढ लाख से अधिक किसानों के खाते में किसान सम्मान निघि योजना के अन्तर्गत धनराशि लम्बित होने की वजहों मे  गलत खाता संख्या, गलत आईएफएसी कोड और गलत नाम का होना पाया गया है। मुख्य विकास अधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि डेढ़ लाख किसानों का डाटा प्रिंट आउट निकाला जा रहा है, जिसे कल राजस्व ग्राम वार सभी तहसीलो में बाटा जायेगा तथा एसडीएम उक्त डाटा लेखपालों को देंगे तथा लेखपाल ग्रामवार सम्बन्धित बैंक मे जाकर उक्त डाटा को टेली करते हुए उसे सही करवायेंगे। उन्होंने बैंक मैनजरों से कहा कि इस कार्य लेखपालों का पूरी तरह से सहयोग करें। 

मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि  किसानों को किसान सम्मान निघि योजना का लाभ मिले सके इसके लिए किसानों के डाटा को सही करने का कार्य  प्राथमिकता के आधार पर किया जाय। इसमें किसी प्रकार की हीलाहवाली न की जाय। उन्होने कहा कि इस कार्य को पूरा करने के लिए  प्रशासनिक अधिकारी एवं बैंक मैनेजर दोनो युद्धस्तर पर लगकर इस कार्य को हर हाल मे पूरा करवायें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि कल किये जाने वाले कार्य के लिए अभी से बैंक मैनेजरों के साथ बैठक कर ली जाय, जिससे लेखपाल जब बैंक मैनेजर के पास जाय, तो उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न हो। मुख्य विकास अधिकारी ने अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि किसान सम्मान निघि योजना की मानीटरिंग स्वयं मा. मुख्यमंत्री जी कर रहें है। 

मुख्य विकास अधिकारी ने किसान क्रेडिट कार्ड योजना की समीक्षा की। जिसमें बताया गया कि किसान क्रेडिट कार्ड द्वारा जनपद के सभी किसानों को संतृप्त किए जाने हेतु विशेष अभियान उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाया गया है। जैसा कि विदित है कि कोलेट्रल फ्री केसीसी की सीमा रिजर्व बैंक आफ इंडिया द्वारा एक लाख से बढ़ाकर एक लाख साठ हजार कर दिया है। भारत सरकार द्वारा किसानों को और सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से अब पशु पालक एवं मत्स्य पालक को भी किसान क्रेडिट कार्ड उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है। सभी बैंक किसान क्रेडिट कार्ड हेतु फार्म छपवा कर कृषकों को निःशुल्क शिविर एवं बैंक स्तर पर उपलब्ध करायें। कृषक के द्वारा फार्म के साथ फोटो तथा खतौनी एवं आधार कार्ड की छाया प्रति उपलब्ध करा दिया जाएगा। सभी बैंकों के प्रमुखों से अनुरोध है कि उक्त अभियान के सफल सम्पादन हेतु अपने स्तर से सभी बैंक कर्मचारियो अधिकारियों को दिशा निर्देश निर्गत किये गये एवं ब्लाक स्तर के अधिकारियों एवं कृषि विभाग से भी संपर्क करते हुए अधिक से अधिक केसीसी हेतु आवेदन एकत्रित करें। 
मुख्य विकास अधिकारी ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा की। जिसमें बताया गया कि इस वर्ष फसल बीमा हेतु यूनिवर्सल सोमपो जनरल इन्शुरेंस कंपनी लि. नामित की गई है। सभी जिला समन्वयक अधिसूचित क्षेत्र में अधिसूचित फसल की खेती करने वाले समस्त कृषकों को खरीफ तथा रबी सीजन में क्रमश 31 जुलाई एवं 31 दिसम्बर की अन्तिम तिथि तक निर्धारित प्रीमियम की कटौती करते हुए योजना के प्राविधानों के अनुसार कवर करें। बैंक शाखाओं द्वारा फसलों ऋण की स्वीकृति रिन्यूवल किये जाने के 15 कार्य  दिवस के अन्दर कृषकों से प्रीमियम की कटौती करते हुए प्रीमियम को इलेक्ट्रानिक माध्यम से बीमा कंपनी को प्रेषित किया जायेगा। विगत वर्षों में यह देखा गया है कि शाखाएँ कृषकों के खाते से प्रीमियम की कटौती अन्तिम समय में करने उनका विवरण पोर्टल पर अपलोड करने का प्रयास करती है, जिसके फलस्वरूप कृषकों के विवरण तथा बीमा कंपनियों को दिए गये आंकडों में समानता नहीं होती है, इस हेतु बैंक शाखाओ  को निर्देशित किया गया कि समस्त ऋणी कृषकों जिन्होंने अधिसूचित क्षेत्र में अधिसूचित फसल हेतु ऋण लिया हो तो अनिवार्य रूप से एवं नॉन ऋणी कृषकों को ऐच्छिक रूप से कवर किया जाये एवं उन्हें बीमा कराने हेतु प्रोत्साहित पटेल



Share To:

Post A Comment: