ढाई बीघा जमीन को लेकर दो सगे भाइयों की हत्या डबल मर्डर से थर्राया हैदराबाद थाना क्षेत्र के परसेड़िया का इलाका खीरी लखीमपुर का मामला पुलिस अधीक्षक पूनम ने किया मौका मुआयना

अजान खीरी हैदराबाद थाना क्षेत्र में सुबह तड़के एक ही गांव के दो लोगों में तकरार बने जमीनी विवाद के चलते दो सगे भाइयों को मौत के घाट उतार दिया गया। घटना के बाद समूचे इलाके में सनसनी फैल गई। एसपी समेत पुलिस के आला अफसरों ने मौका मुआयना कर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया और तनाव को देखते हुए गांव में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। आरोपित पक्ष के तीन सगे भाइयों को नामजद कराते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। 

हैदराबाद थाना क्षेत्र के ग्राम परसेड़िया निवासी रामचंद्र के परिवार के पास 25 बीघे तथा रामजीत वर्मा परिवार के पास 60 बीघे जमीन है। लेकिन दोनों पक्षों के बीच नौ सालों से ढाई बीघे जमीन का विवाद चला आ रहा है। इसका एक मुकदमा एसडीएम गोला के न्यायालय में विचाराधीन है और  जमीन का स्टे रामचंद्र वर्मा पक्ष के पास है। सोमवार की शाम रामजीत ने विवादित जमीन को जोत डाला था और इसे लेकर तनाव व्याप्त हो गया था। मंगलवार को सुबह करीब छह बजे रामचंद्र का पुत्र 40 वर्षीय नंदकिशोर मवेशियों के लिए चारा काटने जा रहा था। आरोप है कि इस दौरान उसकी तकरार नशे की हालत में आ रहे रामजीत से हो गई और उसने नंदकिशोर का हंसिया छीनकर उसके सीने में ताबड़तोड़ प्रहार कर डाले। घटना में नंदकिशोर की मौके पर ही मौत हो गई। शोरगुल सुनकर जब वहां नंदकिशोर का भाई 49 वर्षीय अरविंद पहुंचा तो गुस्साए रामजीत ने उसे भी हंसियों की मार से लहूलुहान कर डाला और भाग निकला। परिवारीजन गंभीर घायल अरविंद को सीएचसी गोला लाए लेकिन डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उधर घटना की खबर फैलते ही मचे हड़कंप के बाद ग्रामीणों का मजमा लग गया और कुछ ही देर बाद एसपी पूनम,एएसपी घनश्याम चैरसिया,एसओ हैदराबाद धर्मदास सिद्धार्थ,गोला कोतवाल देवीप्रसाद तिवारी,डायल 100 टीम पहुंच गई। उन्होने मौका मुआयना किया तथा शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया। गांव में हुए इस हत्याकांड को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। एसओ हैदराबाद ने बताया कि घटना में मृतकों के पिता रामचंद्र ने रामजीत वर्मा,राजेश कुमार व सुभाष वर्मा के खिलाफ केस दर्ज कराया है। आरोपितों की तलाश की जा रही है। 

तत्काल गिरफ्तारी पर अडे़ मृतक परिवारीजन

इस हत्याकांड से मृतक परिवारीजनांे में कोहराम मच गया और वे कातिलों की तत्काल गिरफ्तारी मांग पर अड़ गए। इस कारण पुलिस को शवों का पंचनामा करने में पसीने छूट गए। यह देख पुलिस ने तत्काल आरोपितों के घर दबिश दी। लेकिन वहां ताला लटका मिला जबकि आरोपित पक्ष के लोग फरार मिले। एसपी पूनम ने किसी तरह मृतक परिवारीजनों को सख्त कार्रवाई का दिलासा दिया तब जाकर ही शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा सका। 

कच्ची शराब भी है हत्याकांड की वजह

इस हत्याकांड की वजह इलाके में तमाम जगहों पर बिक रही कच्ची शराब को भी माना जा रहा है। परसेड़ियां गांव में ही पुलिस के संरक्षण में यह धंधा फल फूल रहा है। अगर ग्रामीणों की मानें तो विवाद तो काफी साल से चल रहा था और यदि अमरजीत वारदात के वक्त शराब न पिये होता तो शायद यह दोहरा हत्याकांड टाला जा सकता था। 

दोनों भाइयों के पांच बच्चे हुए बेसहारा

परसेड़िया के हत्याकांड में जान गंवा चुके दोनों सगे भाइयों के पांच बच्चों के सिर से पिता का साया छिन गया है। दरअसल मृतक नंदकिशोर के परिवार में 14 साल का पुत्र पुष्कर, 10 साल की पुत्री प्रिया व छह साल की जान्हवी है। उसके बडे़ भाई मृतक के दो पुत्र 20 वर्षीय सुचित तथा 15 साल का प्रांशू है। घटना के बाद इन बच्चों व परिवारीजनों में कोहराम मच गया है। *रिपोर्ट अशोक कुमार पाण्डेय पत्रकार*




Share To:

Post A Comment: