पुलिस महानिदेशक म.प्र. ने अपराध समीक्षा बैठक, जोन में घटित गम्भीर अपराधों के डिटैक्शन पर पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन को दी बधाई

Kkkन्यूज जबलपुर- पुलिस महानिदेशक मध्य प्रदेश श्री वी.के. सिंह (भा.पु.से.), द्वारा आज 2-7-19 को प्रातः 11-30 बजे पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय जबलपुर में  जोन जबलपुर के वरिष्ठ अधिकारियों की एक मीटिंग ली गयी। मीटिंग में पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन, जबलपुर श्री विवेक शर्मा (भा.पु.से.), आई.जी. एस.ए.एफ उमेश जोगा, पुलिस महानिरीक्षक महिला अपराध अनुसंधान श्री आर.के. अरूसिया (भा.पु.से.),,  पुलिस उप महानिरीक्षक जबलपुर रेंज श्री भगवत सिंह चौहान (भा.पु.से.),, उप पुलिस महानिरीक्षक छिंदवाडा रेंज श्री सुशांत सक्सेना (भा.पु.से.),,  पुलिस अधीधक जबलपुर श्री अमित सिंह(भा.पु.से.),,, पुलिस अधीक्षक छिंदवाडा श्री मनोज राय (भा.पु.से.),,, पुलिस अधीक्षक नरसिंहपुर श्री गुरूशरण सिंह(भा.पु.से.),,, पुलिस अधीक्षक सिवनी श्री कुमार प्रतीक(भा.पु.से.),,, पुलिस अधीक्षक कटनी श्री ललित शाक्यवार, पुलिस अधीक्षक रेल श्री सुनील जैन (भा.पु.से.),,,  सेनानी 6वीं वाहिनी श्री विनीत खन्ना (भा.पु.से.),,, ए.आई.जी. महिला अपराध डॉ. हिमानी खन्ना (भा.पु.से.),,,  पुलिस अधीक्षक अ.जा.क. श्री समर वर्मा उपस्थित थे।आपने जिलेवार हत्या, हत्या का प्रयास, प्रतिबंधात्मक कार्यवाही, लघु अधिनियम, महिला सम्बंधी अपराध एवं एस.सी.एस.टी के अपराधो की त्रिवर्षिय तुलनात्मक समीक्षा की, साथ ही चिन्हित जघन्य एवं सनसनीखेज अपराधों की अद्यतन स्थिति की जानकारी ली एवं सायबर क्राईम से जुडे अपराधों की विवेचना तथा वर्तमान में घटित हुई घटनाओं को ध्यान मे रखते हुये किन किन संसाधनों की , उपलब्ध संसाधनों के अतिरिक्त, दक्षता बढाने हेतु आवश्यकता है के सम्बध मे चर्चा की। आपने जबलपुर संभाग में घटित अपराधों एवं कानून व्यवस्था पर नियंत्रण की स्थिति पर संतोष व्यक्त किया, और भविष्य मे आम जनता को त्वरित न्याय मिलता रहे इस दृष्टिकोण से अपराधो की रोकथाम, स्वतंत्र पंजीयन एंव उनकी पतारसी को उत्तरोतर उत्कृष्ट बनाने  हेतु तथा सोशल मीडिया के माध्यम से साम्प्रदायिक सोहाद्र बिगाडने वाले विध्न संतोषी तत्वों को चिन्हित करने हेतु निर्देशित किया।मीटिंग के पश्चात आपने  प्रेसवार्ता को सम्बोंधित करते हुये कहा कि जबलपुर से पुरानी बहुत सी अच्छी यादें जुडी हुई है। जबलपुर जोन में कुछ बहुत ही अच्छे केस डिटैक्ट हुये हैं, जिसके लिये आपने जबलपुर जोन आई.जी. श्री विवेक शर्मा (भा.पु.से.) को बधाई दी। आपने बताया कि जबलपुर जोन में सभी प्रकार के शीर्ष अपराधों में काफी गिरावट आयी है, हाल ही मे सम्पन्न हुये विधान सभा एवं लोक सभा चुनाव के दौरान असामाजिक तत्वों के विरूद्ध काफी अधिक संख्या में  प्रभावी प्रतिबंधात्मक कार्यवाही की गयी थी, उसका असर इसमें देखने को मिला है, असर यह है कि  अपराधों में कमी आयी है और एक खास अच्छी बात यह है कि अपराधों में जो फायर आर्म्स का इस्तेमाल होता था वो नगण्य हो गया है, महिलाओं के विरूद्ध अपराधें मे भी कमी आयी है, महिला सम्बंधी अपराधों में विशेष संवेदनशीलता बरती जा रही है। मध्य प्रदेश में यह कहा जाता रहा है कि बलात्कार की घटनाओ की संख्या बहुत ज्यादा है, महिलाओं के विरूद्ध अपराधों की संख्या बहुत ज्यादा है, जिसका कारण पुलिस हमेशा यही बताती रही है कि फ्रीं रजिस्ट्रेशन होता है, जितने अपराध होते है जितनी रिपोर्ट होती हैं, सभी रजिस्टर्ड होती है , जो अन्य राज्यों की तुलना से कहीं अलग स्थिति है, फिर भी हमने एक अभियान चलाया हुआ है खास तौर पर छोटी उम्र की बच्चियों के लिये, क्योकि इनके साथ घटित हुये अपराध भले की कम हो लेकिन इसका मैसिज बहुत बुरा जाता है, अभियान में छोटी बच्चियों एवं बडी लडकियों को भी सैनसटाईज करें कि किन से सावधान, किन परिस्थितियों से सावधान रहें, और उनके माता पिता, परिजनों को भी सैंसटाईज करें वो भी किन परिस्थितियों से सावधान रहें, और बच्चों का किस प्रकार से ख्याल रखे, इस में हम पुलिस अधिकारियों खासतौर पर महिला पुलिस अधिकारियों , एनजीओ, मीडिया के साथियों के साथ मे लेकर हम यह अभियान चला रहे है, जिसके हमें अच्छे रिजल्ट हमें देखने को मिले हैं।

ट्राफिक के सम्बंध मे आपने कहा कि सड़क दुर्घटना में मृतकों की संख्या में बढोतरी हुई है, सडके बेहतर हुई है, गाडियॉ तेज चलने वाली आ गयी हैं, यूथ जो है हमारा, वो मुझे दुख होता है कहते हुये कि बहुत डिसीप्लेन्ड नहीं है,  आपको जानकर आश्चर्य होगा, कि जितने मर्डर है पूरे जोन में है उससे 7 गुना ज्यादा संख्या है एक्सीडेंट मे मरने वालों की है। कही मर्डर होता है उसकी बहुत चर्चा होती सभी जगह लेकिन एक्सिडेंट मे कितने लोग एैसे ही मर जाते है, और सारे के सारे वो यूथ होते हैं, यह समाज के लिये बुरी स्थिति है। सभी को ब्लैक स्पॉट चिन्हित कर कारणों का पता लगाकर सड़क दुर्घटनाओं पर नियंत्रण करने हेतु निर्देशित किया गया है।कई अपराधों की प्लानिंग जेलो मे हो जाती है, जेलो के साथ बेहतर समन्वय स्थापित कर जानकारी संकलित करें, तथा जेल से छूटे अपराधियो की लगातार मॉनिटरिंग करें, क्योंकि कई अपराधी  जेल से छूटते ही अपराध करते है।  पुलिस हाउसिंग के क्षेत्र मे बहुत अच्छी प्रगति हुई है, प्रगति लगातार जारी है, पुलिस के लिये अब लगातार बेहतर आवास बन रहे हैं, इसके साथ ही आपने थाने व पुलिस लाईन मे किस प्रकार का डिसिप्लेन है की समीक्षा के लिये निर्देशित किया है क्योकि पुलिस बिना  डिसीप्लन के, टीम वर्क के अच्छा काम कर ही नहीं सकती, कई बार सोशल मीडिया के माध्यम से साम्प्रदायिक भावना भडकाने एवं तनाव की स्थिति निर्मित करने के प्रयास होते रहते है,  जिसे ध्यान में रखते हुये सोशल मीडिया पर लगातार निगाह रखने हेतु सोशल मीडिया मॉनिटिंरिंग सैंटर बनाये गये है जिसके माध्यम से लगातार निगाह रखी जा रही है, मॉनिटरिंग सैंटर के माध्यम से ट्रेस कर एैसे कई लोगो के विरूद्ध कार्यवाही भी की गयी है।सायबर सम्बंधी अपराधें से निपटने के लिये हमारे पास मुख्यालय स्तर पर अच्छे खासे सायबर एक्सपर्ट अधिकारी है, सायबर सम्बंधी जो भी अपराधी है उनसे हम कम नहीं है उनसे एक कदम आगे हैं। जघन्य एवं सनसनीखेज चिन्हित अपराधों में हमारा सजा का प्रतिशत 75 प्रतिशत है, हमारा सजा का प्रतिशत बाकी स्टेट से बेहतर है। नक्सलाईड की समस्या के सम्बंध में आपने बताया कि चुनाव के समय महाराष्ट्र, छत्तीसगढ के साथ मीटिंग  नागपुर एवं भोपाल मे हुई है, अभी हाल ही मे नक्सलाईड समस्या को लेकर सैंट्रल एजेन्सीस के साथ विशेष मीटिंग हुई है , इसमें इस बात का विशलेषण किया गया है कि  नक्सलाईड किस तरफ बढ रहे है, उन्हें रोकने का प्रयास किया जा रहा है,  आपने यह भी बताया कि अभी वर्तमान मे नक्सलाईड प्रभावित जिले बालाघाट, मण्डला, डिण्डोरी  हैं,


सोनू त्रिपाठी रिपोर्टर कलयुग की कलम

Share To:

Post A Comment: