जिलाधिकारी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान के अंतर्गत बैठक हुई संपन्न

चित्रकूट-जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बालिका सुरक्षा जागरुकता (जुलाई माह) अभियान के अन्तर्गत बैठक सम्पन्न हुयी। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि बालिकाआें की सुरक्षा एवं उन्हें हर प्रकार के उत्पीड़न से बचाने की आवाज जन-जन तक पहुंचे। जिससे सभी लोग इसके प्रति गम्भीर होकर सहयोग करें और यह कार्यक्रम जन-जन का हो जाए। शासन/प्रशासन पूरे मनोयोग से लगी है जिसके तहत विद्यालयों में बालिका सुरक्षा जागरुकता के कार्यक्रम रोस्टर बना कर किये जा रहे हैं। बालिकाओं के मन से डर, भय, शर्म, आशंका जैसी भावनाओं को उनके मन से निकालना होगा और यह कार्य माता-पिता, अभिभावक, शिक्षक अच्छे से कर सकते हैं। बालिकाओं को जागरुक करना है कि आपको किसी से नही डरना है निडर होकर अपनी बात आप अपने शिक्षकों, माता-पिता, भाई-बहन से कह सकती है। जब तक आपके मन में झिझक रहेगी रहेगी तब तक आप कुछ कहने में समर्थ नही हो सकती कोई भी अच्छी-बुरी घटना को घर वालों के साथ बांटे और उसका निदान सोचें। कार्यक्रम में जो 02 मास्टर ट्रेनर आये है वह आपको विस्तार से बतायेंगे कि बालिकाओं को कैसे सुरक्षित किया जा सकता है। जो शासन से शेड्यूल आया है उसे जनपद में चलाये जा रहे कार्यक्रम अनुसार प्रत्येक सप्ताह भरकर देना है। जिस कार्यक्रम को जो विभाग करायेगा उसे भरकर देना है।पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार झा ने कहा कि बालिकाओं को जागरुक करने हेतु विद्यालयों में पुलिस विभाग द्वारा कार्यक्रम का आयोजन कर बालिकाआें को अपनी बात बताने हेतु प्रेरित किया जा रहा हैं और उन्हे बताया जा रहा है कि सुरक्षित/असुरक्षित स्पर्श क्या है और लोग कैसे प्रभावित कर लेते है और बालिकायें उनकी बातों मे आकर अपना जीवन बर्बाद कर लेती है। इसलिये आपको निडरता से काम लेना है और किसी भी घटना को छुपाना नही है तत्काल उसे घर पर, माता-पिता या स्कूल मे शिक्षक को बताना है जिससे उन्हें तुरन्त दण्ड मिल सके। पुलिस विभाग द्वारा स्कूलों में शिकायत पुलिस पेटिका लगाई गई है जिनमें आप अपनी शिकायत जो आपको स्कूल आने जाने में मनचलों द्वारा की गई हरकत की जाती है ऐसी घटनाओं का विवरण इस पेटिका में पूरा विवरण तथा स्थान का नाम लिख कर डालना है इस पर त्वरित कार्यवाही पुलिस विभाग द्वारा की जायेगी।मास्टर ट्रेनर विनोद शंकर सिंह एवं श्रीमती उर्मिला ने बालिका सुरक्षा के संबंध में विभिन्न प्रकार के टिप्स दिये। उन्होंने कहा कि बालिकायें सबसे पहले अपने मन से डर व भय को दूर करें और अपनी बात निडरना के साथ कहने की अपने में हिम्मत पैदा करें। बालिकाओं का कोई कुछ नही बिगाड़ सकता यही बात हमे इन्हे बतानी है और निडर बनाना है। दो रिसोर्स पर्सनस नामित किये गये जो पुलिस विभाग व महिला हेल्पलाइन की टीम के साथ विद्यालयों मे जाकर बालिकाओं को जागरुक करेंगे। बालिकाओं को 1090 व 100 की जानकारी कराई जाये कि किसी भी दुर्घटना के वक्त तत्काल इन नम्बरों पर फोन करें। यह सहयोग के लिये हैं।इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी जी0पी0 सिंह, जिला प्रोबेसन अधिकारी रामबाबू विश्वकर्मा, जिला विद्यालय निरीक्षक  बलिराजराम, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रकाश सिंह, एवं महिला हेल्प लाइन की टीम सहित अन्य अधिकारी/नागरिक उपस्थित रहे।

मंडल प्रभारी अश्विनी कुमार श्रीवास्तव

कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं वेब न्यूज चैनल

जनपद चित्रकूट


Share To:

Post A Comment: