मा0 अध्यक्ष उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड की अध्यक्षता में माटी कला से संबंधित अधिकारियों के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक हुई संपन्न

चित्रकूट-मा0 अध्यक्ष उत्तर प्रदेश माटी कला बोर्ड धर्मवीर प्रजापति की अध्यक्षता में व सदर विधायक चद्रिका प्रसाद उपाध्याय एवं जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की उपस्थिति में माटी कला से संबंधित अधिकारियों के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक संपन्न हुई।मा0 सदस्य ने अधिकारियों से कहा कि पर्यावरण संतुलन को दृष्टिगत रखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री जी द्वारा पॉलीथिन, प्लास्टिक को प्रयोग में न करने के निर्देश दिए गए हैं इसी को दृष्टिगत रखते हुए जिले के सभी नगर निकायों, ग्रामीण क्षेत्रों, में पॉलीथिन प्लास्टिक के प्रयोग को बैन किया है इसके साथ ही समस्त विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कार्यालय में होने वाली बैठक एवं अन्य आयोजनों के अवसर पर प्लास्टिक की बोतल व कप सहित अन्य प्लास्टिक सामग्री का प्रयोग न किया जाए। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार प्लास्टिक के गिलास के बजाए कुल्लड़ के उपयोग पर बल दिया जाए उन्होंने कहा कि पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगाकर माटी कला को प्रोत्साहित किया जाए साथ ही मिट्टी के बर्तनों की प्रदर्शनी भी लगाई जाए जिससे कि लोग प्लास्टिक के स्थान पर मिट्टी के बरतन आदि का प्रयोग करने हेतु जागरूक हो सकें माटी कला से जुड़े लोगों को रोजगार उपलब्ध कराकर उनका जीवन स्तर सुधारने का हर संभव प्रयास किया जाए। माटी कला से जुड़े कामगारों को आवंटित पट्टों की वास्तु स्थित, पट्टों की संख्या आदि उपलब्ध रहनी चाहिए जिन पट्टों पर अवैध कब्जे हैं वहां लेखपाल पुलिस की मदद से तत्काल हटाए तथा वास्तविक माटी कला से जुड़े कामगारों को पट्टे आवंटित की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए जिससे लोगो को लाभ मिल सके उनके लिए रोजगार उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि इस जनपद में 23 सौ लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा और भी बढ़ाया जाएगा जिससे कि लोगों को हर प्रकार की चीजें बनाने की जानकारी हो सके उन्होंने कहा कि लंच बॉक्स, कुकर दाल की अलग-अलग हांडी, जग, गिलास, प्लेट थाली सहित अनेक अन्य सभी सामग्री मिट्टी की बन रही हैं जिनका प्रयोग करना हमारे जीवन के लिए जरूरी है उन्होंने कहा कि मिट्टी का प्रयोग जितना कम होता जा रहा है उतनी ही बीमारी फैलती जा रही हैं इन बीमारियों से बचने के लिए हमें पुनः पुरानी परंपरा में लौट कर मिट्टी के बर्तनों का प्रयोग करना होगा। उन्होंने कहा कि मिट्टी में 26 पोषक तत्व पाये जाते हैं पांच तत्वों से मिलकर मानव का शरीर बना है।सदर विधायक ने कहा कि मिट्टी का उपयोग हमारे जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक है हमारे जीवन का मुख्य आधार ही मिट्टी से जुड़ा है और मिट्टी को अपनाना ही हमारा मुख्य उद्देश्य है मिट्टी को अपनाने से कई प्रकार की बीमारियों से बचा जा सकता है।जिलाधिकारी ने मा0 अध्यक्ष का स्वागत करते हुए कहा कि जिले में माटी कला से जुड़े परिवारों में माटी कला के पट्टे शीघ्र अभियान चलाकर सर्वे कराया जाएगा माटी कला से जुड़े परिवारों को शासन की मंशा के अनुरूप शतप्रतिशत लाभाविंत किया जाये। माटी कला से जुड़े लोग जो गिलास कुल्लड़ घड़ा सहित अन्य प्रकार की सामग्री के आकर्षक बर्तन बनाएं जिससे की आम जनमानस द्वारा इनका प्रयोग करते हुए पर्यावरण को दूषित होने से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक से बनी हुई चीजों का इस्तेमाल न करें क्योंकि प्लास्टिक हमारे पर्यावरण के लिए बहुत ही नुकसानदायक है इससे हम लोगों को बचना होगा और मिट्टी के बर्तनों का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करना होगा।इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी  जी पी सिंह, उपजिलाधिकारी राजापुर अश्विनी कुमार पांडे, जिला खादी ग्रामोद्योग अधिकारी चंद्रशेखर वर्मा समस्त तहसीलदार सहित संबंधित अधिकारी व गांव से आए माटी कला से जुड़े लोग मौजूद रहे।

मंडल प्रभारी अश्विनी कुमार श्रीवास्तव
कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका एवं दैनिक वेब न्यूज चैनल
*जनपद* चित्रकूट
Share To:

Post A Comment: