🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

रवीश कुमार को अपनी बेबाक और निडर पत्रकारिता के लिए हार्दिक बधाई।

आज के चाटुकार पत्रकारिता, बेशर्म पत्रकारिता, बिकाऊ पत्रकारिता और गैरजिम्मेदाराना पत्रकारिता के दौर मे उन जैसे कुछ ही पत्रकार बचे हैं जो चौथे स्तंभ की जिम्मेदारी का निर्वाह करते हैं।

 आज का टॉपिक पत्रकारिता होना चाहिए

एक मात्र भारतीय पत्रकार रवीश कुमार जी को ही अवार्ड क्यो मिला?
जबकि सबसे तेज चेनल का दावा करने वाले , DNA करने वाले, आपकी अदालत लगाने वाले पत्रकारों को अवार्ड क्यो नही मिला?
सरकारी दावों की आकड़े सहित पोल खोल को सही तरह अंजाम पुण्य प्रसून वाजपेयी ने भी बखूबी और निर्भीकता से दिया है।

जिससे मोदी सरकार इस हद तक डर और गिर गई कि पुण्य प्रसून वाजपेयी को एक के बाद एक कई चैनल से बर्खास्त कराया, उनके कार्यक्रम के दौरान चैनल के रिले सिग्नल तक मे व्यवधान डाला गया।

पुण्य प्रसून वाजपेयी भी बहुत बहुत बधाई के पात्र हैं।
Share To:

Post A Comment: