संपादक की मेहरबानी से बिन तनख्वाह पत्रकार बना।।

जेब में कैमरा गाड़ी में PREES लिखा मैं थोड़ा बना ठना ।।

मुहल्ले की खबर छपी तो लिखित पत्रकार बना ।

खबर छाप कर सब का दुश्मन एक का वफादार बना।

शायद सभी का यही हाल जो भी पत्रकार बना ।।

एक घटना का शिकार हुआ तो पहली बार लाचार हुआ ।।

जिम्मेदार लोग कहे तू तो बड़का पत्रकार बना ।।

थाना कचहरी एक कर मै खबरों का सरदार बना ।।

बिना पेट्रोल गाड़ी जेब हुई खाली जब से मैं पत्रकार बना ।।

सबके सामने सम्मान हुआ पीठ पीछे अपमान हुआ।।

फिर भी मैं पत्रकार बना।।

Share To:

Post A Comment: