जनपद पंचायत ढीमरखेड़ा के ग्राम उमर पानी छाहर महंगमा और देगवा इन ग्रामों में कभी नहीं आते बिजली विभाग के अधिकारी जब कभी ट्रांसफार्मर जलता है तब ही आते हैं बिजली विभाग के अधिकारी ना कोई पेट्रोलिंग ना बिजली सुधारना ना तार की जांच करना और लाइट अगर टूट जाती है डिक्स पंचर हो जाता है खंबे टूट जाते हैं तार टूट जाती है तो ग्रामीण स्वयं ही इसका काम करते हैं।

 प्रत्यक्ष दिख रहा है इन ग्रामों के ग्रामीणों का कहना है कि इन ग्रामों में जिला उमरिया से लाइन आई हुई है।

 जिला उमरिया के हर्वाह बिलासपुर से इन ग्रामों में लाइट की सुविधा पहुंचाई गई है।
 और इनका बिल भुगतान सिलोडी में होता है मतलब सिलोडी क्षेत्र ही लाइट की पेट्रोलिंग और व्यवस्था के लिए ऑफिस लगती है ग्रामीणों का यह भी कहना है कि जब कभी सिलोरी में शिकायत की जाती है लाइट के खराब होने पर वहां से एक भी व्यक्ति आकर लाइट की पेट्रोलिंग नहीं करता सालों साल बीत रहे हैं ग्रामीण स्वयं ही यह खतरा मोल लेकर अपने लाइट सुधारते हैं अगर ग्रामीण लाइट ना सुधरे तो यहां लाइट की व्यवस्था ही ना रहे आज ऐसा ही हुआ ग्राम का ट्रांसफार्मर खराब हुआ ग्रामीणों ने स्वयं ही बिजली सुधारना प्रारंभ कर दिया ग्राम मैदाना मोहल्ले से कुछ आदिवासी ट्रांसफार्मर बिजली सुधारने का कार्य कर रहे हैं यह कैसे हो सकता है वीडियो प्रत्यक्ष देख रही है ग्रामीणों ने स्वयं बताया कि बिजली सुधारने का कार्य इन्हीं के द्वारा किया जाता है क्योंकि यहां कोई लेन मैन बिजली सुधारने नहीं आता  बिजली विभाग का यह रवैया बिल्कुल सही नहीं  बिजली विभाग सचेत होकर कार्य करें ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरीके से बड़ी घटनाएं हो सकती हैं


अब्दुल कादिर खान की रिपोर्ट कलयुग की  कलम


विडियो देखे- 



Share To:

Post A Comment: