राज्य महिला आयोग ने महिला जनसुनवाई में सुनी पीड़ित महिलाओं की समस्यायें

KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
        प्रयागराज
विकास कुमार पटेल

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग के द्वारा महीने मे की जा रही महिला जनसुनवाई से पीड़ित महिलाओं को मिल रहा न्याय

सदस्य, उ.प्र. राज्य महिला आयोग ने एक दर्जन से अधिक मामलों की सुनवाई की, दिये अधिकारियों को निर्देश

थानों पर महिलाओं की शिकायतें गम्भीरता के साथ सुनते हुए प्रकरणों निस्तारण सुनिश्चित कराया जाय - सदस्य, उ.प्र. राज्य महिला आयोग पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए राज्य महिला आयोग कटिबद्ध - सदस्य, उ.प्र. राज्य महिला आयोग

21 अगस्त 2019 प्रयागराज।

मा. सदस्य, उ.प्र. राज्य महिला आयोग  अनामिका चैधरी ने सरकिट हाऊस में पीड़ित महिलाओं की समस्यायें सुनी उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि महिलाओं की शिकायतो को पूरी गम्भीरता से लिया जाय, इसमें किसी प्रकार की शिथिलता बिल्कुल भी बर्दाश्त नही की जायेगी। उन्होंने कहा कि महिला जन सुनवाई में आने वाले शिकायती प्रकरणों के निस्तारण की मानिटरिंग सुनवाई के बाद नियमित रूप से आयोग के स्तर पर की जाती है इसलिए प्रकरणों को बेवजह लम्बित करने तथा पीडित महिलाओ को न्याय दिलाने में किसी प्रकार का विलम्ब कतई क्षम्य नही होगा। उन्होंने लगभग एक दर्जन से अधिक मामलों की सुनवाई की।सदस्य, उ.प्र. राज्य महिला आयोग ने सरकिट हाऊस में रीतू उर्फ पार्वती गुप्ता पत्नी हिमांशू उर्फ मनीष गुप्ता ने अपने शिकायती प्रार्थना पत्र में पति के द्वारा मारपीट की शिकायत दर्ज करवायी है। जिस पर सदस्य, उ.प्र. राज्य महिला आयोग ने कड़ी नाराजगी व्यक्त की और रीतू उर्फ पार्वती गुप्ता के पति हिमांशू उर्फ मनीष गुप्ता को बुलाने का आदेश दिया है। इसी तरह पूनम निवासी सोरांव के द्वारा शिकायत दर्ज की गयी है, जिसमें बताया गया कि शिकायकर्ती का पति दूसरी महिला को भगा ले गया है।  सदस्य ने सम्बन्धित थाने के प्रभारी को निर्देशित किया कि दर्ज की गयी शिकायत की जांच करते हुए निस्तारण से अवगत करायें। इसी तरह सदस्य ने आये अन्य पीडित महिलाओं की समस्याओं को सुना तथा सम्बन्धित थानों के प्रभारियों को निर्देशित किया।

 सदस्य ने पूर्व की जनसुनवाई के प्रकरणों के निस्तारण की स्थिति देखी। उन्होंने उपस्थित थानो के प्रभारी अधिकारियों को निर्देशित किया कि महिलाओं की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर सुनें। उन्होंने कहा कि अगर कोई पीडित महिला थाने में अपनी शिकायत लेकर आती है तो उसकी पूरी समस्या को गम्भीरता से सुने तथा उस पर त्वरित कार्यवाही भी करें। उन्होंने कहा कि महिलाओ की समस्याओं को त्वरित निस्तारण कराने के लिए उ.प्र. राज्य महिला आयोग पूरी तरह से कटिबद्ध है। इसके साथ ही थानों पर ही महिलाओं की समस्यायें निस्तारित करने पर उन्होंने जोर दिया और कहा कि महिलाओं की समस्यायें थानो पर ही समाधान होने पर महिलाओं को इधर-उधर भटकने की आवश्यकता ही नही पड़ेगी।


Share To:

Post A Comment: