🌸 राजनीति महिषासुर बनी हुई है 🌸

"राम कृष्ण को अलग किसने किया"???

1 दिन पहले पटना में कृष्णमंदिर नीतीश ने तुड़वा दिया, आज बरेली में श्रीकृष्ण की झांकी योगी सरकार में रोकी गई,कोई कथित हिंदुत्व के ठेकेदार मुँह से एक शब्द नही निकला 

=======================


ये इस विचारधारा के तहत किया गया प्रतीत होता है कि किसी को कमज़ोर करना है तो उसके आदर्शों पर प्रहार करो, साथ ही ये आदर्शों के आधार पर समाज केे विभाजन का एक नया तरीका प्रतीत होता है ।।

बुद्धिजीवी वर्ग और पत्रकारों को चाहिए कि देश की एकता अखंडता ओर सामाजिक भाईचारे में से भेदभाव को जड़ से निकाल फेंके।।

सिर्फ पैसा कमाने के लिए पत्रकारिता करना कलयुग का चलन हो गया है, जो कि पाप है। आज कल, गरीब, किसान, महिलाओं, बच्चों की परवाह नहीं कि जाति !!

विगत कुछ वर्षों में जोर शोर से देवी देवताओं पर आधारित आयोजनों एवम् कार्यक्रमों का विस्तार हमारे आस पास एवम् टीवी पर हुआ है।।

 हमारे आदर्शों में आस्थायें प्रगाढ़ की गई हैं।।

मानव सेवा गौण होती जा रही है।।

अब अपने अपनेे आदर्शों पर प्रहार होता देख लोग और संवेदनशील होंगे और निकट भविष्य में बटेंगे भी।। यह राजनीति की चाल है।।

 सब अपने वाले को बचाने का प्रयास करते नज़र आयेंगे।। आ भी रहे हैं।।

संत रविदास जी खतरे में हैं, कृष्ण जी खतरे में हैं।। दुर्गा जी पर टैक्स ही लग गया है !!

 अब शायद गणेश जी, हनुमान जी एवम् अन्य इसका हिस्सा बनें!!

यदि यही चलता रहा तो निश्चय ही षडयंत्र कामयाब है।।
Share To:

Post A Comment: