तत्काल वृक्षरोपण नही हुआ तो हाईकोर्ट के लिये तैयार रहे प्रशासन

रीवा संभाग सहित म0प्र0 में लगभग दो हजार करोड़ का हुआ घोटाला

KKK न्यूज़ रिपोर्टर संतोष कुमार पटेल रीवा, 22 अगस्त। जनता दल सेक्युलर के प्रदेशाध्यक्ष शिव सिंह एडवोकेट ने पत्रकारों से चर्चा कर बताया कि रीवा सम्भाग में नेशनल हाइवे फोरलेन सड़को के निर्माण दौरान काटे गये पुराने वृक्षो के बदले अनुबंध मुताबिक वृक्षारोपण नही कराया जा रहा, तथा करोड़ो की काटी गई लकड़ी गायब कर दी गई है तथा रीवा संभाग सहित समूचे म0प्र0 में लगभग दो हजार करोड़ का घोटाला किया गया है,  जिसकी उच्च स्तरीय जाॅच कराये जाने 19 अगस्त को प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री एवं अवर सचिव पी.डब्ल्यू.डी. भोपाल, मुख्य अभियंता सड़क विकास निगम, कमिश्नर रीवा, कलेक्टर रीवा/सतना को पत्र लिख कर तत्काल मांग की है, तथा सड़क विकास प्रबंधक रीवा, वन संरक्षक रीवा, क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण बोर्ड, एस.डी.ओ. पी.डब्ल्यू.डी. राष्ट्रीय राजमार्ग को अवगत कराया है। मामले का खुलासा करते हुये श्री सिंह ने बताया कि नेशनल हाइवे मार्ग रीवा-हनुमना व मनगवां-चाकघाट तथा रीवा-सतना एवं रीवा-सिरमौर फोरलेन सड़क निर्माण दौरान म0प्र0 सड़क विकास निगम द्वारा हजारो पुराने वृक्षो का कत्लेआम किया गया था, जिसमें कलेक्टर के आदेश मुताबिक उसी प्रजाति के 10 गुना वृक्ष लगाये जाने का पालन न करने पर प्रधानमंत्री व भारत सरकार सड़क परिवहन मंत्रालय को दिनांक 18.04.2016 को की गई शिकायत पर सड़क परिवहन मंत्रालय द्वारा दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही का आदेश मनीष रस्तोगी तत्कालीन एम0डी0 म0प्र0 सड़क परिवहन निगम को दिया था साथ ही परिवहन मंत्रालय ने एम0डी0 से उक्त मामले से संबंधित दस्तावेज भी तलब किये थे लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई। ज्ञात हो कि नेशनल हाइवे में फोरलेन के निर्माण दौरान मार्ग के दोनो तरफ 100 से 150 वर्ष पूर्व पुराने वन विभाग द्वारा रोपित फलदार, इमारती, छायादार वृक्ष आम, लिप्टस, जामुन, बबूल, सीसम, मेगुर, नीम, पीपल, गुलमोहर, नीलगिरी, कचनार, सेमरा, कदम, बेल, शो-बबूल, अमरूद, बरगद, महुआ, उमर, कैथा, ईमली, करंज केदा, किजी, गुरार, सिरसा, आमला, कदम, बड़ी इमली, खजूर, कटहल आदि जिनकी संख्या रीवा से हनुमना के बीच 3582 वृक्ष तथा मनगवां से चाकघाट उ0प्र0 की सीमा तक के बीच 2530 वृक्ष सन् 2012-13 एवं 2017-18 में काटे गये थे। जिसमें आम के वृक्ष 30ः तथा सिरसा के लगभग 20ः शेष अन्य वृक्ष सामिल थे तथा रीवा-सतना मार्ग के बीच सीताराम पेट्रोल पम्प से कृपालपुर गेट तक में 263 नग वृक्ष एवं शेष रीवा-सतना मार्ग में हजारो वृक्ष काटे गये इसी तरह रीवा-सिरमौर मार्ग के बीच 670 वृक्षो का कत्लेआम किया गया है। ज्ञात हो कि म0प्र0 सड़क विभाग द्वारा वृक्षों के काटने का ठेका इंदौर की प्रा0लि0 कम्पनी विंध्यांचल एक्सप्रेस-वे एवं अन्य सड़क निर्माण कम्पनियों को दिया गया था किन्तु उक्त कम्पनी द्वारा तत्कालीन शासन सत्ता की रसूकदार कम्पनी दिलीप विल्डकाॅन को कार्य हस्तांरित कर दिया गया था। वृक्षों को काटने लकड़ी के रखरखाव तथा वृक्षो के लगाने सम्बन्धी आदेश जो कलेक्टर रीवा ने प्रबंधक म0प्र0 सड़क विकास निगम संभाग क्रमांक 2 को अपने अलग-अलग प्रकरण क्रमांक  54/अ-19/मूल/ 2011-12, आदेश दिनांक 13.01.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 17/अ-62/मूल/ 2011-12, आदेश दिनांक 04.08.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 10/अ-62/मूल/ 2011-12, आदेश दिनांक 11.06.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 13/अ-62/मूल/ 2011-12, आदेश दिनांक 11.07.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 20/अ-62/मूल/ 2011-12, आदेश दिनांक 28.09.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 21/अ-62/मूल/ 2011-12, आदेश दिनांक 28.09.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 03/अ-62/मूल/ 2012-13, आदेश दिनांक 02.11.2012 एवं प्रकरण क्रमांक 09/अ-62/मूल/ 2012-13 तथा प्रकरण क्रमांक 12/अ-62/मूल/2017-18 एवं प्रकरण क्रमांक 13/अ-62/मूल/ 2017-18 आदेश दिनांक 14.08.2018 उक्त विभिन्न आदेशों में वृक्षो के काटने की अनुमति म0प्र0 सड़क विकास निगम को दी थी। उक्त आदेशों में यह शर्ते रखी गई थी कि काटे गये वृक्षों के स्थान पर उसी प्रजाति के 10 वृक्ष सड़क के दोनो किनारे लगाये जाये। यदि लगाये गये वृक्ष सूख जाते है या नष्ट हो जाते है तब पुनः वृक्षो का रोपण संस्था कराकर उनकी परवरिश 05 वर्षो तक निरंतर तारफेंसिंग व मजबूत ट्री गार्ड फिक्स कर करे। यह भी शर्त थी कि जो वृक्ष काटे जायेगे उनकी नीलामी वन विभाग से मूल्यांकन करवाया जाकर सम्बन्धित क्षेत्र के तहसीलदार के माध्यम से नीलामी की कार्यवाही की जाकर राशि भू-राजस्व के विहित मद में जमा कराई जायेगी तथा काटे गये वृक्षों की लकड़ी अस्थायी वन डिपो में जमा करवाने व कटाई में होने वाला व्यय संस्था को ही वहन करना पड़ेगा जबकि काटे गये पुराने वृक्षो की लकड़ी का मूल्य करोड़ो रूपये से अधिक था लेकिन जानकारी मांगने पर आज तक यह नही बताया गया कि उक्त लकड़ी कहा जमा है, ऐसे में साफ जाहिर है कि करोड़ो का भ्रष्टाचार किया गया है। तथा यह भी शर्त थी कि नये रोपित पौधो का निरीक्षण वन विभाग समय-समय पर करेगा तथा देखभाल निर्माण संस्था एवं म0प्र0 सड़क विकास निगम करेगा। काटे गये वृक्षो के बदले लगभग 01 लाख से अधिक वृक्ष लगाना था जिसका संबंधित विभागो द्वारा नही किया जा रहा है। जिसकी शिकायत प्रधानमंत्री सहित भारत सरकार सड़क परिवहन मंत्री से की गई थी तथा मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन को भी शिकायत की गई थी जिस पर सम्भागीय प्रबंधक सड़क विकास निगम लिमिटेड सम्भाग क्रमांक 1 रीवा द्वारा पत्र क्रमांक 89/2019 के माध्यम से यह जानकारी शासन को दी गई थी कि रीवा-हनुमना सड़क के किनारे 42883 पौधो का पौधरोपण किया गया है, तथा तारफेसिंग व टीगार्ड भी लगाये गये है, लेकिन उक्त कार्य मात्र दस्तावेजो तक ही सीमित है। जिसके चलते पर्यावरण पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है, एवं रीवा सम्भाग क्षेत्र में मानसूनी प्रभाव के चलते बारिस कम हुई एवं व्यापक जल संकट के कारण कृषि कार्य भी प्रभावित हो रहा है। दौरान पत्रकार वार्ता जनता दल सेक्युलर के जिला अध्यक्ष मो0 आबिद राजू, महासचिव रामेश्वर सोनी उपस्थित रहें।


भवदीय

शिव सिंह एडवोकेट

(प्रदेशाध्यक्ष) जे.डी.एस.



Share To:

Post A Comment: