गंगा जमुना मे उफान तराई इलाकों पर बाढ़ का संकट

KKK न्यूज़ ब्यूरो रिपोर्ट
        प्रयागराज
विकास कुमार पटेल

प्रयागराज  कहर बरपा  सकती है बाढ़, खतरे का निशान पार करेगा पानी

प्रयागराज। इस बार गंगा और यमुना में बाढ़ का पानी कहर बरपाएगा। जिस रफ्तार से दोनों नदियों का पानी बढ़ रहा है, उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि जलस्तर खतरे का निशान पार करेगा। इससे जिले में दोनों नदियों के निचले इलाके में तबाही की आशंका है। मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड, पश्चिमी उप्र व बुंदेलखंड में बारिश का पानी प्रयागराज में गंगा और यमुना के जलस्तर पर असर डाल रहा है। बरियारपुर डैम से पिछले छह दिनों में पांच लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया दरअसल, मध्य प्रदेश में केन नदी पर बने बरियारपुर डैम से पिछले छह दिनों में पांच लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। इसका असर गुरुवार से अब तक दिख रहा था। इसी तरह बेतवा नदी के माताटीला डैम से चार दिनों के दौरान छह लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। इसका असर यहां पर शनिवार शाम से दिख रहा है। धसान नदी पर बने लाचूरा डैम से भी दो लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा गया था, जिसका असर यहां पर दिख रहा है। चंबल नदी का पानी भी आ रहा है। हरियाणा स्थित हथिनीकुंड बैराज से भी कई दफा पानी छोड़ा गया था। रविवार को भी हथिनीकुंड से 8.24 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है, जिसका असर यहां पर तीन-चार दिन बाद दिखेगा। वहीं तराई इलाके के कई गांव बाढ़ की चपेट में हैं गंगा जमुना का जल स्तर दिन प्रतिदिन बढ़ने से किनारे बसे गांव की लोगों की चिंताएं बढ़ने लगी है।

Share To:

Post A Comment: