रासायनिक खाद और दवा का इस्तेमाल करना किसानो ने बन्द नहीं की तो आने वाले समय भयावह होगा 

KKK न्यूज़ रिपोर्टर
          नैनी
      सुभाष चंद्र

प्रयागराज  विकास खंड जसरा के कृषि उप सम्भाग परिसर में सम्पन्न हुई किसान गोष्ठी । बता दें कि शुक्रवार को कृषि उप सम्भाग परिसर विकास खंड जसरा में कृषि सूचना तंत्र सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता के तहत मुख्य अतिथि के रूप शीयाट्स कृषि विद्यालय के वैज्ञानिक डॉ मुकेश पी यम एव डॉ टी डी मिश्रा ने कहा कि मृदा प्रदूषण से बचने के लिए किसानो को रासायनिक खेती छोडकर जैविक खेती करने की जरूरत है । जबकि अच्छे स्वास्थ्य के लिए रासायनिक कीट नाशको का प्रयोग बंद कर देना चाहिए । जिससे किसानो को उन्नत फसल व अधिक लाभ के लिए वैज्ञानिक विधि से खेती करनी चाहिए । जबकि रासायनिक खाद और दवा दोनों कहीं ना कहीं किसानो के फसल के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य पर भी असर डाल रहीं हैं । जिसका आने वाले समय में रूप बहुत ही भयावह होगा । जिसको भविष्य में रोक पाना बहुत ही  मुश्किल होगा । अगर अभी से किसान भाई नहीं चेते तो परिवार के साथ-साथ पूरे देश में बिमारियों के जाल बिछ जाएंगे । इस लिए किसान भाई जैविक खेती की ओर अग्रसर हो जिससे पौष्टिक अनाज के साथ-साथ हरि भरी सब्जियों से अपने परिवार के साथ-साथ पूरे देश को हरा भरा कर  दें । इसी कड़ी में उप सम्भाग के विषय वस्तु विशेषज्ञ भानू प्रताप सिंह ने कृषकों को कृषि विभाग के योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी और सरकार की महत्वाकांक्षी योजना किसान पेंशन की किसानो को बताया तथा राजकीय कृषि बीज भण्डार प्रभारी ने कृषि विभाग द्वारा किसानो को बीज की उपलब्धता, अनुनाद और आगामी रबी के फसल हेतु चर्चा किया और कार्यक्रम में मौजूद बैंक आफ बड़ौदा के एफ यल सी रमेशचन्द्र सरोज ने बैंक से सम्बधित जानकारी किसानो को दिया । कार्यक्रम का संचालन जमालुद्दीन अंसारी ने किया और कृषि विभाग से संबंधित कर्मचारी कमाल अहमद, गौतम सिंह, विजय कुमार मिश्र, भरत सिंह, जय प्रकाश, रमेशचन्द्र पाण्डेय, मुलायम सिंह यादव तथा कृषक लाल सिंह पटेल, सतीश कुशवाहा, राधेश्याम मिश्र, विद्या रतन खौरिया, राजेन्द्र सिंह बाघेल, आदित्य नरायन शुक्ला, कप्तान सिंह, दिवाकर सिंह सहित सैकड़ों किसान उपस्थित रहे ।




Share To:

Post A Comment: