यहाँ 3: 20 में ही स्कूल में बंद हो जाता है ताला 

उमरियापान संकुल केंद्र के मंगेली स्कूल का मामला 

कलयुग की कलम (अंकित झारिया रिपोर्टर)

उमरियापान:- संकुल केन्द्र उमरियापान से महज 6 किलोमीटर दूर स्थित मंगेली के प्राथमिक शाला के शिक्षक समय के पहले ही स्कूल बंद करके चले जाते हैं।शिक्षक अपनी मर्जी से स्कूल आते- जाते हैं। स्कूल के शिक्षकों ने शनिवार को दोपहर 3: 20 बजे पर ही छुट्टी कर दिया।स्कूल में ताला जड़कर अपने अपने घर के लिए निकल पड़े।

ग्रामीणों ने इसकी शिकायत बीआरसी और संकुल प्राचार्य से किया। जानकारी के मुताबिक उमरियापान शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक स्कूल संकुल अंतर्गत प्राथमिक शाला मंगेली आती हैं। प्रधानाध्यापक सूर्यकांत त्रिपाठी का इन दिनों स्वास्थ्य ठीक न होने से वे चिकित्सा अवकाश पर चल रहे हैं।अब स्कूल का पूरा प्रभार बबिता कोल के पास है। बबिता कोल अपनी मनमर्जी से स्कूल का संचालन करती हैं।उनको आगे शासन के नियम कानून सब कुछ फेल है। शिक्षा विभाग द्वारा शालाओं को बंद करने का समय साढ़े चार बजे निश्चित किया है। यहाँ पर पदस्थ अधिकांश शिक्षक बाहरी गांवों से अपडाउन करते हैं।शाला में पूरा समय नहीं दे पाते है।शनिवार को नजारा देखने को मिला जब गांव के लोग शाला पहुँचे तो दोपहर 3: 20 बजे स्कूल में ताला जड़ चुका था।शिक्षक और बच्चे सब घर के लिए निकल चुके थे।

इस सम्बंध में शाला प्रभारी बबिता कोल का कहना है कि उनका जबलपुर में जरूरी काम होने से वो स्कूल से निकल आई। इसकी जानकारी दोनों जनशिक्षकों को दिया है। वहीं बीआरसी विजय चतुर्वेदी का कहना है कि जनशिक्षकों को भेजकर मामले की जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी। 

इनका कहना है:- मंगेली स्कूल समय के पूर्व बंद होने की सूचना मिली थी। जनशिक्षकों को भेजकर जांच कराई गई है।जांच में स्कूल बंद पाया गया।प्रतिवेदन मिल चुका है।नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। - कमलेश साहू:- संकुल प्राचार्य



Share To:

Post A Comment: