शिक्षा के क्षेत्र मे समर्पित जे पी मिश्रा को 5 सितम्बर को मिलेगा  मुख्यमंत्री अध्यापक पुरूस्कार 
----------------------

चित्रकूट धाम मण्डल के चुने गए उत्कृस्ट शिक्षकों मे से एक 
-----------------------

चित्रकूट जनपद अंतर्गत मुख्यालय स्थित जेपी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य जे पी मिश्रा को मुख्यमंत्री अध्यापक पुरुस्कार से शिक्षक दिवस के अवसर पर सम्मानित किया जायेगा. समूचे चित्रकूट धाम मण्डल से चयनित जे पी मिश्रा को यह पुरूस्कार उनकी उत्कृस्ट सेवाएं और शिक्षा के प्रति सकारात्मक कार्यों के लिए दिया जा रहा है.  शिक्षक दिवस पर प्रदेश में पहली बार वित्तविहीन विद्यालयो के 15 शिक्षकों को मुख्यमंत्री अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा लखनऊ स्थित लोक भवन में 5 सितंबर को सुबह 11 बजे होने वाले शिक्षक सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री डॉ0 दिनेश शर्मा माध्यमिक और उच्च शिक्षा विभाग के इन शिक्षकों को सम्मानित करेगे। इन शिक्षको को 25-25 हजार रुपये नगद प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया जायेगा सम्मान स्वरूप यह पुरुस्कार दिया जा रहा है
ग्रामीण पृष्ठभूमि से पले बढे जेपी मिश्रा  राजापुर क्षेत्र स्थित पटना खालसा गांव से है.  सन 1958 मे जन्मे जे पी मिश्रा हमेशा से ही समाजसेवा और शिक्षा के प्रति समर्पित रहे है .  गरीब बच्चे कैसे पढ़े और उन्हें अच्छी और बेहतर शिक्षा कैसे  मिले.  इसी कसक से  1978 से ही एक विद्यालय जे पी इंटरमीडिएट कॉलेज नाम से खोल दिया. आज इसी विद्यालय मे हजारों की संख्या मे गरीब छात्रों को पढ़ने का पूर्ण अवसर दिया जाता है. शिक्षा मे पूर्ण समर्पित 22 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके जेपी मिश्रा बताते है कि  पढ़ना और पढ़ाना उन्हें बहुत ही अच्छा लगता है, उन्होंने बताया की एक गरीब साधारण परिवार मे उनका जन्म हुआ . शिक्षा के प्रति लोग तब उतने गंभीर नहीं थे साधन और संसाधन कि पूर्णतया कमी थी, माता पिता भी साधारण किसान थे. फिर भी लगन और मेहनत से बछरन कॉलेज से दसवीं और बारहवीं कर अतर्रा पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज से स्नातक और  हिन्दी से एम.ए. करने के उपरांत बीएड कर पूर्णकालिक  शिक्षण ही बन गए. जे पी मिश्रा बताते है की उन दिनों नौकरियां बहुत ही आसान थी वह चाहते तो वो कही नौकरी कर लेते लेकिन शिक्षा की अलग जगाना है, हर एक को शिक्षा के प्रति जागरूक करना है, इनका मानना है कि  एक शिक्षित व्यक्ति ही अच्छे समाज और परिवार का सुधारक है. इसी लिए उन्होंने स्वयं के धन से 1978 मे  स्कूल का निर्माण कराया, जूनियर, हाईस्कूल और इंटर के सभी विषयों की मान्यता प्राप्त कर बेहतरीन संचालन कर समाज मे शिक्षा के प्रति एक दिशा दी और अनवरत दर्जनों लोगो को रोजगार देने के साथ हजारों लोगो को उत्कृस्ट शिक्षा दी जा रही है. पैसा कमाना उनका उदेश्य कभी नहीं रहा. बताया गया की यह पुरूस्कार वित्तबिहीन कॉलेज के शिक्षकों को पहली बार दिया गया है. प्रदेश के कुल 15 शिक्षकों को यह पुरूस्कार मुख्यमंत्री स्वयं अपने हाथो से देंगे. 
यह खबर सुनते ही चित्रकूट के  जिला विद्यालय निरीक्षक ने उनको बधाई  दी. साथ ही उनके शुभचिंतकों मे खुशी का माहौल है. जे पी इंटर कॉलेज के अध्यापकों ने बधाई दी.
Share To:

Post A Comment: